जम्मू-कश्मीर भारत का हिस्सा था और हमेशा रहेगा: राजनाथ सिंह

Sep 05, 2016
जम्मू-कश्मीर भारत का हिस्सा था और हमेशा रहेगा: राजनाथ सिंह
घाटी में शांति बहाली के लिए श्रीनगर पहुंचा सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल के दौरे का आज आखिरी दिन है। सर्वदलीय प्रतनिधिमंडल जम्मू में कई सामाजिक-राजनीतिक संगठनों से मिलेगा।

श्रीनगर, (जेएनएन)। केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह की अगुवाई में दो दिवसीय जम्मू-कश्मीर के दौरे पर पहुंचे सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल के दौरे का आज अंतिम दिन है। प्रतिनिधिमंडल आज फिर शेर-ए-कश्मीर इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर (एसकेआइसीसी) में कई लोगों के साथ मुलाकात करेगा। इस मुलाकात के बाद राजनाथ सिंह सुबह 11 बजे एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे। जिसके बाद 26 सांसदों का दल श्रीनगर से जम्मू रवाना हो जाएगा। जम्मू में यह प्रतिनिधिमंडल कई सामाजिक और राजनीतिक संगठनों से बात करेगा।

प्रतिनिधिमंडल में शामिल केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने कहा कि ‘पिछली बार हालात कुछ अलग थे। लेकिन, अब अलगाववादियों ने बात ना करने का मन बना लिया है।’

सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा कि ‘राज्य और केंद्र सरकार को अब राजनीतिक संवाद को आगे ले जाना होगा।’

सभी पक्षों से बिना शर्त वार्ता हो: महबूबा

रविवार को सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल श्रीनगर के एसकेआइसीसी पहुंचा। मुलाकातों के दौर की शुरुआत मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के नेतृत्व में राज्य मंत्रिमंडल और केंद्रीय दल की बैठक से हुई। मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने भी कश्मीर समस्या का बातचीत के जरिये समाधान निकालने और इसके लिए एक संस्थागत तंत्र तैयार करने पर जोर दिया। राज्य के वित्तमंत्री डॉ. हसीब द्राबु ने पैलेट गन बंद करने और राज्य के लिए विकास राशि जारी करने पर जोर दिया।

उमर अबदुल्ला भी रहे मौजूद

उमर अब्दुल्ला के नेतृत्व में नेशनल कांफ्रेंस ने आंतरिक स्वायत्तता, अलगाववादी खेमे से बातचीत को ही कश्मीर समस्या का हल बताया। जबकि अवामी इत्तेहाद पार्टी के चेयरमैन इंजीनियर रशीद ने जनमत संग्रह की बात की।

सांसदों से नहीं मिले अलगाववादी नेता

रविवार को जयदू नेता शरद यादव समेत पांच विपक्षी सांसद अलगाववादी नेताओं से मुलाकात करने पहुंच गए।शेर-ए-कश्मीर इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर (एसकेआइसीसी) में मुख्यधारा के विभिन्न राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों से मुलाकात के बाद शाम साढ़े चार बजे माकपा के सीता राम येचुरी, एआइएआइएम के असदुद्दीन ओवैसी, जदयू के शरद यादव, राजद के राजनारायाण यादव, भाकपा के डी राजा और उत्तरी कश्मीर से पीडीपी के राज्यसभा सदस्य फैयाज बट प्रतिनिधिमंडल के बाकी सदस्यों से अलग होकर अलगाववादियों से मिलने निकल पड़े। लेकिन सैयद अली शाह गिलानी, मीरवाइज मौलवी उमर फारूक और यासीन मलिक ने मिलने से इन्कार कर दिया।

शोपियां में भड़की हिंसा

रविवार को सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल के कश्मीर दौरे से पहले शोपियां जिले में जमकर बवाल हुआ। प्रदर्शनकारियों ने ज़िला प्रशासन के कार्यालय को आग के हवाले कर दिया गया। प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए सुरक्षाबलों ने लाठी-चार्ज की और आंसू गैस छोड़े। इस दौरान कई लोग घायल भी हुए।

हिंसा में 74 लोगों की मौत

हिज्बुल आंतकी बुरहान वानी की मौत के बाद भड़की हिंसा में अब तक 74 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि हजारों लोग घायल हुए हैं। वहीं घाटी के कई हिस्सों में करीब 2 महीनों से कर्फ्यू लगा हुआ है।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>