जम्मू-कश्मीर विधानसभा के स्पीकर बोले, बिना सदन की मंजूरी बजट पर न हो अमल

Jun 03, 2016
जम्मू-कश्मीर विधानसभा के स्पीकर ने कहा कि विधानमंडल की अनुमति के बगैर बजट पर अमल न किया जाए।

श्रीनगर(राज्य ब्यूरो)। बजट में प्रस्तावित प्रावधानों पर सदन का अनुमोदन हासिल किए बिना राज्य सरकार द्वारा उन्हें लागू किए जाने पर बुधवार को विपक्ष ने कड़ी आपत्ति जताई। इस पर स्पीकर कवींद्र गुप्ता ने संज्ञान लेते हुए कहा कि बिना सदन की मंजूरी के बजट पर अमल न किया जाए। स्पीकर ने राज्य सरकार को बजट प्रावधानों को लागू करने के संदर्भ में जारी सभी एसआरओ व आदेश वापस लेने केनिर्देश दिए। उन्होंने कहा कि बजट पास होने के बाद ही इस तरह के कदम उठाए जाएं।सदन में इस मुद्दे पर लगभग दस मिनट तक हंगामा चला और प्रश्नकाल की कार्यवाही रुकी रही। नेशनल कॉन्फ्रेंस ने उमर के नेतृत्व में वित्त मंत्री पर सदन की अवमानना का आरोप लगाया।

ये भी पढ़ें :-  वीडियो- राजधानी दिल्ली में बीच सड़क पर हुआ 'LIVE मर्डर' CCTV कैद

इस दौरान पूर्व वित्त राज्यमंत्री पवन गुप्ता और प्रदेश भाजपा प्रमुख सतशर्मा के बीच तीखी तकरार देखने को भी मिली। सुबह जैसे ही स्पीकर कवींद्र गुप्ता ने सदन में आकर अपना आसन ग्रहण कर प्रश्नकाल की कार्यवाही शुरू की, उमर अब्दुल्ला के नेतृत्व में नेशनल कांफ्रेंस के सभी सदस्य अपनी सीटों पर खड़े हो गए। उन्हें खड़ा देख कांग्रेस के सदस्य भीखड़े हो गए। उमर ने वित्तमंत्री की तरफ देखते हुए कहा कि बजट अभी पास नहीं हुआ है। आपने कैसे एसआरओ लागू कर दिए। यदि बजट पास किए बिना ही उस पर अमल करना है और एसआरओ के जरिए आदेश देकर उस पर कार्रवाई की जानी है। तो फिर यहां बजट की बहस का ड्रामा क्यों हो रहा है।

ये भी पढ़ें :-  एंटी रोमियो स्क्वाड करेगा माताओं-बहनों की सुरक्षा : अमित शाह

बीते दो दिनों से हम यहां बजट पर बहस कर रहे हैं। मुझे लगता है कि हम यहां अपना और इस सदन का वक्त ही जाया कर रहे हैं। पक्ष के नेता ने कहा कि अगर सरकार ने ऐसा ही करना था तो हमें यहां बुलाने कीक्या जरूरत थी। इससे बेहतर होता कि हम अपना यह समय अपने निर्वाचन क्षेत्रों में लगाते। वित्तमंत्री ने सदन की अवहेलना की है। इस पर वित्त मंत्री डॉ. हसीब द्राबु ने उमर को जवाब देते हुए कहा कि मैंने कुछ गलत नहीं किया है।

केंद्रसरकार भी ऐसा करती है और बजट जारी होने के बाद ही उस पर एसआरओ जारी कर दिए जातेहैं। वित्त मंत्री के स्पष्टीकरण पर निर्दलीय विधायक इंजीनियर रशीद ने पलटवार करते हुए कहा कि हमें केंद्र से क्या लेना देना, आप यहां की बात करें। क्या हम दिल्ली के डेलीवेजर हैं। इसी दौरान ऊधमपुर के विधायक पवन गुप्ता ने भाजपा विधायक सत शर्मा पर कटाक्ष करते हुए कहा कि भाजपा-पीडीपी सरकार ने सारे नियमों का उल्लंघन किया है। सदन में इस मामले पर जबरदस्त हंगामा होने लगा। कांग्रेस विधायकों ने भी राज्य सरकार को आड़े हाथ लेना शुरू कर दिया।

ये भी पढ़ें :-  अब अप्रैल से सिर्फ 3 घंटे में निकालें PF का पैसा, लागू होगी नई व्यवस्था

स्थिति को बिगड़ते देख स्पीकर कवींद्र गुप्ता ने तुरंत हस्तक्षेप करते हुएसरकार को बजट से संबंधित सभी एसआरओ वापस लेने का निर्देश देते हुए कहा कि सदनमें जब तक बजट पारित न हो, इससे संबंधित कोई एसआरओ या प्रशासनिक आदेश जारी नहींकिया जाए। इसके अलावा संबंधित विभाग बजट के प्रावधानों के संदर्भ में जारी आदेश व सूचनाएं भी वापस लें।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected