अमरनाथ यात्रा से पहले माहौल बिगाड़ने की साजिश…

Jun 15, 2016
श्री अमरनाथ यात्रा से ठीक पहले चौबीस घंटे के भीतर हुई जम्‍मू में दो घटनाओं से बिगड़ माहौल ने यह सवाल उठाने को मजबूर कर दिया है कि कहीं अमरनाथ यात्रा बाधित करने की साजिश तो नहीं।

जम्मू (राज्य ब्यूरो)। दो जुलाई से शुरू हो रही श्री अमरनाथ यात्रा से ठीक पहले चौबीस घंटे के भीतर हुई दो घटनाओं से यह प्रश्न उठने लगे हैं कि कहीं यह सब यात्रा में खलल डालने की साजिश तो नहीं है। कश्मीर में पहले से ही आतंकवादी घटनाओं में वृद्धि हुई है और अब जम्मू में आप शंभू मंदिर की घटना से माहौल बिगाड़ने का प्रयास किया जा रहा है।

सोमवार को जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर आतंकवादी हमले के बाद से ही ही आशंका जताई जा रही थी कि यह सब अमरनाथ यात्रा में खलल डालने की साजिश है। अभी इस घटना को हुए चौबीस घंटे ही व्यतीत हुए थे कि जम्मू के शांत क्षेत्र में मंदिर को निशाना बनाकर माहौल बिगाडऩे का प्रयास हुआ। पहले एक युवक ने मंदिर के शीशे तोड़े और फिर जब पुलिस में शिकायत हुई तो पुलिस के असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर पर भी आरोप लगा कि उसने भी मामले को शांत करने के स्थान पर आग में घी डालने का काम किया। इससे पूरे क्षेत्र में तनाव फैल गया और लोगों ने तोड़-फोड़ भी शुरू कर दी। इससे कहीं न कहीं यात्रा से पहले माहौल को बिगाडऩे में हो रही साजिश की बू भी नजर आ रही है। हालांकि यह सही है कि जिला प्रशासन ने कदम उठाते हुए लोगों को शांत करने का प्रयास किया, लेकिन यह घटना फिर से आठ साल पहले के आंदोलन की याद दिला रही है।

भूमि आंदोलन भी ऐसे ही हुआ था

साल 2008 में श्री अमरनाथ भूमि आंदोलन की चिंगारी भी इसी तरह भड़की थी। प्रशासन ने पहले मामले को गंभीरता से नहीं लिया और धीरे-धीरे इस आंदोलन की चिंगारी पूरे जम्मू संभाग में फैल गई। दो महीने तक पूरा जम्मू संभाग बंद रहा था।

लोगों में फिर आक्रोश

आपशंभू मंदिर में हुई इस घटना के बाद लोगों में भारी आक्रोश है। रूपनगर से शुरू हुआ प्रदर्शन पहले जानीपुर, न्यूप्लाट, जम्मू-अखनूर रोड सहित पूरे जम्मू पश्चिम में फल गया।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>