DCNS से तीन और पनडुब्बी नहीं लेगा भारत

Sep 03, 2016
DCNS से तीन और पनडुब्बी नहीं लेगा भारत
एक अधिकारी ने कहा कि डाटा का गंभीर हिस्सा सामने आने के कारण नौसेना पनडुब्बी को हुए नुकसान के निर्धारण पर ध्यान केंद्रित किए हुई है।

नई दिल्ली, रायटर। स्कॉर्पीन पनडुब्बी का डाटा लीक हो जाने के बाद भारत फ्रांसीसी कंपनी डीसीएनएस को तीन नई पनडुब्बी का आदेश नहीं देने जा रहा है। वरिष्ठ रक्षा अधिकारी ने इस आशय की संभावना जाहिर की। स्कॉर्पीन की क्षमता से जुड़े गोपनीय डाटा लीक हो जाने के बाद सतर्कता बरती जा रही है। स्कॉर्पीन पनडुब्बी का ब्योरा पिछले महीने आस्ट्रेलियाई अखबार में प्रकाशित हुआ था। ब्योरा सामने आने के बाद चिंता बढ़ गई कि सेवा में शामिल होने के लिए तैयार होने से पहले ही यह आघात योग्य हो गई है।

ये भी पढ़ें :-  राहुल से हुई सिद्दू की मुलाकात, भाजपा को हराने पर हुई चर्चा, जल्द थामेंगे कांग्रेस का दामन

सूत्रों ने बताया कि भारत अपने पुराने हो चले सोवियत काल के बेड़े को बदलना चाहता है। इसी क्रम में डीसीएनएस ने तीन पनडुब्बियों के निर्माण में मदद की पेशकश की थी। इस मुद्दे पर पिछले वर्ष वार्ता हुई थी। अधिकारियों के मुताबिक, अब इस पेशकश पर कदम नहीं बढ़ाया जाएगा।

रक्षा मंत्रालय के एक अधिकारी ने अपना नाम जाहिर नहीं करने की शर्त पर कहा, ‘हमने छह के लिए ही समझौता किया था और यह छह ही रहेगा।’ नौसेना के प्रवक्ता ने भी इस बात की पुष्टि की कि तीन और पनडुब्बियों के लिए आदेश नहीं दिया जाएगा।

नौसेना प्रवक्ता ने कहा, ‘भारत ने के केवल छह स्कॉर्पीन पनडुब्बियों का आदेश दिया था। मीडिया में तीन और के लिए आदेश देने की खबरें सही नहीं हैं। ऐसे में निरस्त करने का सवाल पैदा नहीं होता है।’

ये भी पढ़ें :-  बीजेपी राम मंदिर को लेकर भड़का रही है ताकि वोट ले सके: अखिल भारतीय अखाडा परिषद

एक अधिकारी ने कहा कि डाटा का गंभीर हिस्सा सामने आने के कारण नौसेना पनडुब्बी को हुए नुकसान के निर्धारण पर ध्यान केंद्रित किए हुई है। आदेश को विस्तार देने की योजना के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा कि अब किसी आदेश पर दस्तखत नहीं किया जाएगा।

डीसीएनएस के प्रवक्ता एमानुअल ने कहा कि सूचना से कंपनी हैरान हो गई है। उन्होंने कहा, ‘सरकार और भारतीय साझीदारों के साथ बातचीत चल रही है। इस तरह के फैसले की हमें किसी भी तरह से जानकारी नहीं मिली है।’

भारत के रक्षा मंत्रालय ने डीसीएनएस को संदेश भेजकर लीक के बारे में ब्योरा मांगा है। इसके अलावा यह भी बताने के लिए कहा कि स्कॉर्पीन के इंटेलीजेंस गैदरिंग फ्रीक्वेंसी, गोते की गहराई, स्थायित्व और हथियारों के विनिर्देश से संबंधित कितना डाटा सार्वजनिक हो गया है।

ये भी पढ़ें :-  बिना इजाजत खादी कैलेंडर पर लगाई तस्वीर, नाराज हैं पीएम मोदी

पढ़ें-

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected