भारत की तरफ से काबुल को सैन्य मदद पाक के साथ बढ़ा सकता है और तनाव

Aug 23, 2016
भारत की तरफ से काबुल को सैन्य मदद पाक के साथ बढ़ा सकता है और तनाव
अफगानिस्तान के राजदूत ने नई दिल्ली में बताया कि भारत काबुल को और सैन्य मदद करेगा।

नई दिल्ली। पाकिस्तान की ऐतराज को दरकिनार करते हुए भारत अपने दोस्त अफगानिस्तान को और सैन्य मदद कर सकता है। इस बात की जानकारी भारत में अफगानिस्तान के राजदूत शैदा मोहम्मद अब्दाली ने दी।भारत ने अफगानिस्तान को पिछले पन्द्रह वर्षों में करीब 2 बिलियन डॉलर की आर्थिक सहायता की है। लेकिन, पाकिस्तान को नाराज ना करने के चलते भारत सीधे तौर अफगानिस्तान को हथियार देने से अब तक बचता रहा है।

अफगानिस्तान में तालिबान के सफाए के बाद पिछले साल दिसंबर को नई दिल्ली की तरफ से काबुल को चार लड़ाकू हेलीकॉप्टर देने की घोषणा की गई थी। यह पहला मौका है जब अफगानिस्तान को सामरिक मदद की घोषणा की गई। भारत में अफगानिस्तान के राजदूत शैदा मोहम्मद अब्दाली ने कहा, “क्षेत्रीय सुरक्षा की स्थिति बिगड़ती जा रही थी और अफगानिस्तान को तालिबान, इस्लामिक स्टेट और अन्य आतंकी संगठनों से निपटने के लिए सैन्य मदद की सख्त जरुरत थी।”

पढ़ें-

अब्दाली ने समाचार एजेंसी रायटर्स को दिए इंटरव्यू में बताया, “भारत की तरफ से चार लड़ाकू हेलीकॉप्टर देने के लिए उनका आभार व्यक्त करते है। लेकिन, हमें इसकी और ज्यादा जरुरत है। आज हम जिस तरह की स्थिति से गुजर रहे हैं वह भारत समेत पूरे क्षेत्र के लिए चिंता की बात है।”

एक सैन्य अधिकारी ने बताया कि 29 अगस्त को अफगानिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कदम शाह शाहिम नई दिल्ली आकर अपने जरूरतों के हिसाब से रक्षा सामग्रियों की सूची सौंप सकते हैं। हालांकि, इसमें यह साफ नहीं है कि उसके लिए कितना पैसा दिया जाएगा और कितने सामान मुफ्त में दिए जाएंगे।

पढ़ें-

भारत और अफगानिस्तान के घनिष्ठ होते सामरिक रिश्तों पर पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय से पूछे गए सवालों के जवाब में उन्होंने कहा कि पाकिस्तान सरकार दोनों देशों के द्विपक्षीय रिश्तों पर कोई टिप्पणी नहीं करेगी।लेकिन, उन्होंने पाकिस्तान को अस्थिर करने के किसी भी प्रयास के लिए चेताया। उन्होंने कहा कहा कि हमारी उम्मीद ये है कि पाकिस्तान को अस्थिर करने के लिए अफगानिस्तान को अपनी धरती कभी भी भारत को नहीं देनी चाहिए।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>