एनएसजी टीम के ढाका दौरे की खबरों से सरकार का इन्कार

Jul 08, 2016
सरकार ने मीडिया की उन खबरों को सफेद झूठ करार दिया है, जिनमें कहा गया है कि आतंकी घटनाओं का अध्ययन करने के लिए एनएसजी की एक टीम फिलवक्त ढाका में है।

नई दिल्ली, प्रेट्र। बांग्लादेश में हाल में हुए आतंकी हमलों की जांच के लिए नेशनल सिक्यूरिटी गार्ड (एनएसजी) की कोई टीम ढाका के दौरे पर नहीं है। केंद्र सरकार ने मीडिया की उन खबरों को सफेद झूठ करार दिया है, जिनमें कहा गया है कि आतंकी घटनाओं का अध्ययन करने के लिए एनएसजी की एक टीम फिलवक्त ढाका में है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा, ‘केवल स्पष्ट करना चाहता हूं कि एनएसजी की एक टीम के ढाका दौरे की खबर झूठी है। वहां कोई टीम नहीं गई है।’विकास स्वरूप इन दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ दक्षिण अफ्रीका के दौरे पर हैं। उन्होंने वहीं से मीडिया की इस आशय की खबरों को बेबुनियाद करार दिया है। इससे पूर्व मीडिया में इस तरह की खबरें आई थीं कि ढाका के एक रेस्तरां और गुरुवार को ईदगाह पर आतंकी हमले का अध्ययन करने के लिए एनएसजी की एक टीम बांग्लादेश गई है।

ये भी पढ़ें :-  लगातार पीएम मोदी को निशाने पर रखने वाले राहुल गांधी को, स्मृति ईरानी ने दिया करारा जवाब

इन खबरों में आधिकारिक सूत्रों के हवाले से कहा गया था कि बांग्लादेश से मंजूरी मिलने के बाद केंद्र सरकार ने ढाका दौरे के लिए एनएसजी टीम को अनुमति प्रदान की थी। मीडिया के अनुसार बांग्लादेश प्रवास के दौरान इस टीम को उन स्थलों का दौरान भी करना था, जहां हाल में आतंकी हमले हुए। खबरों के मुताबिक, एनएसजी टीम में आतंकवाद निरोधी अभियान के विशेषज्ञ भी शामिल थे।

सुषमा ने हरसंभव मदद का भरोसा दिलाया

ढाका, आइएएनएस। आतंकी हमलों से सहमे बांग्लादेश को भारत ने हरसंभव मदद का भरोसा दिया है। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने अपने बांग्लादेशी समकक्ष एएच महमूद अली को पत्र लिखकर आतंकवाद के खिलाफ जंग में हर तरह का समर्थन देने की पेशकश की है। बकौल सुषमा, ‘दुख की इस घड़ी में भारत, बांग्लादेश के साथ मजबूती से खड़ा है।

ये भी पढ़ें :-  राहुल गांधी ने भेजी अखिलेश को उम्मीदवारों की सूची, समझौते पर सबकी नजर

आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में हम बांग्लादेश के साथ कंधे से कंधा मिलाकर संघर्ष करेंगे। हम अपने समाज को घृणा, हिंसा और आतंक की विचारधारा के खतरों से बचाने के लिए साथ-साथ लड़ेंगे।’ उनका कहना है, ‘आतंकवादियों के खिलाफ संघर्ष में हमें व्यापक दृष्टिकोण अख्तियार करना होगा।’ इससे पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक जुलाई और ईद के दिन हमले की कड़े शब्दों में निंदा की। पीएम मोदी ने बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना को फोन कर आतंकवाद की लड़ाई में हर तरह से साथ देने का भरोसा दिया था।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected