डेढ़ गुना तक बढ़ गया राजधानी, दूरंतो और शताब्दी ट्रेनों का किराया

Sep 08, 2016
डेढ़ गुना तक बढ़ गया राजधानी, दूरंतो और शताब्दी ट्रेनों का किराया
जानकारी के मुताबिक फर्स्ट क्लास और एग्जीक्यूटिव क्लास को छोड़कर बाकी सभी क्लास पर ये व्यवस्था लागू होगी।

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। यह मध्यम वर्ग के लिए बड़ा झटका है। सरकार ने राजधानी, दूरंतो और शताब्दी ट्रेनों के बेस किराये बढ़ा दिए हैं। इन पर फ्लेक्सी फेयर स्कीम लागू कर दी गई है। इससे एसी फ‌र्स्ट व एक्जीक्यूटिव क्लास को छोड़ बाकी सभी श्रेणियों में शुरुआती 10 प्रतिशत बढ़ोतरी के साथ अगली हर दस फीसद बुकिंग पर किराये में 10 फीसद बढ़ोतरी होगी।

पचास फीसद सीटें भरने तथा किराया डेढ़ गुना किराया होने तक यह सिलसिला चलेगा। आखिरी पचास फीसद सीटें भी इसी किराये पर बुक होंगी। सुपर फास्ट, खाना, आरक्षण शुल्क, सर्विस टैक्स जैसे शुल्कों को मिलाकर कुल किराया कहीं अधिक बैठेगा। जून, 2014 के बाद किरायों में यह पहली बड़ी बढ़ोतरी है। इसे माल यातायात में कमी तथा सातवें वेतन आयोग का नतीजा माना जा रहा है।

राजधानी, दूरंतो के फ‌र्स्ट एसी तथा शताब्दी के एक्जीक्यूटिव क्लास पर यह स्कीम लागू नहीं होगी। यानी इनके किराये ज्यों के त्यों रहेंगे। फ्लेक्सी फेयर स्कीम के किराये 9 सितंबर से लागू हो रहे हैं।

1.1 से 1.5 गुना तक किराया :

मोटे तौर पर समझ लें कि यदि अभी राजधानी, दूरंतो और शताब्दी का बेसिक किराया 100 रुपये है तो 9 सितंबर या उसके बाद की यात्रा के लिए जब आप टिकट बुक कराएंगे तो शुरू के दस फीसद (1-10 फीसद) यात्रियों को मौजूदा किराया ही देना होगा।

पढ़ें-

लेकिन इसके बाद 10-20 फीसद तक सीटों की बुकिंग पर 110 रुपये (1.1 गुना) बेसिक फेयर अदा करना होगा। इसी प्रकार 20-30 फीसद बुकिंग पर 120 (1.2 गुना) रुपये, 30-40 फीसद बुकिंग पर 130 (1.3 गुना) रुपये तथा 40-50 फीसद बुकिंग पर 140 (1.4 गुना) रुपये किराया देना होगा। जबकि 50 फीसद और उसके बाद बुक होने वाली सभी सीटें 150 रुपये (डेढ़ गुना) के अधिकतम किराये पर बुक होंगी।

तत्काल टिकट भी डेढ़ गुना महंगे :रेलवे बोर्ड की ओर से जारी सर्कुलर के मुताबिक फ्लेक्सी फेयर स्कीम के तहत तत्काल के टिकट भी अधिकतम डेढ़ गुना किराये पर ही बुक होंगे। लेकिन इन पर तत्काल का शुल्क नहीं लगेगा। इन ट्रेनों में प्रीमियम तत्काल कोटा लागू नहीं होगा। लेकिन अन्य विभिन्न कोटे ज्यों का त्यों लागू होंगे।

कंसेशन :

प्रत्येक चरण (हर 10 प्रतिशत बुकिंग) में बेस फेयर पर वर्तमान में लागू सभी कन्सेशन लागू होंगे।

करेंट बुकिंग :

रेलवे के अनुसार चार्टिग के वक्त खाली बची सीटों को करेंट बुकिंग के लिए खोल दिया जाएगा। करेंट बुकिंग की इन टिकटों के लिए भी डेढ़ गुना किराया देना होगा।

उच्चतर श्रेणी संभव :

बुकिंग के वक्त कभी ऐसा भी हो सकता है कि कमतर श्रेणी का किराया उच्चतर श्रेणी से ज्यादा हो। ऐसी स्थिति में यात्री को उच्चतर श्रेणी चुनने का विकल्प उपलब्ध कराया जाएगा।

अंतर की वसूली :

ट्रेन के अंदर टीटी द्वारा किराये का अंतर (डिफरेंस) वसूलने की सहूलियत के लिए राजधानी, दूरंतो व राजधानी की प्रत्येक ट्रेन का श्रेणीवार अंतिम किराया आरक्षण चार्ट पर प्रिंट किया जाएगा। रिफंड नियमों में कोई परिवर्तन नहीं किया गया है। 9 सितंबर या उसके बाद की यात्रा के लिए पहले से बुक हो चुके टिकटों पर यात्रियों से कोई डिफरेंस नहीं वसूला जाएगा।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>