मौजूदा समय में सुप्रीम कोर्ट में नहीं कोई मुस्लिम जज

Sep 06, 2016
मौजूदा समय में सुप्रीम कोर्ट में नहीं कोई मुस्लिम जज
सुप्रीम कोर्ट में फिलहाल कोई भी मुस्लिम जज नहीं है। पिछले तीन दशकों में ऐसा पहली बार हुआ है। आखिरी बार 2012 में सुप्रीम कोर्ट में किसी मुस्लिम जज की नियुक्ति हुई थी।

नई दिल्ली। आप सभी को जानकर आश्चर्य होगा कि मौजूदा समय में सुप्रीम कोर्ट में कोई भी मुस्लिम जज नहीं है। पिछले 11 वर्षों में ऐसा पहली बार हुआ है। इसी वर्ष सुप्रीम कोर्ट से दो मुस्लिम जज रिटायर हो गए। पिछले करीब तीन दशकों में ऐसा दूसरी बार हुआ है कि देश की सर्वोच्च अदालत में कोई मुस्लिम जज नहीं है। आखिरी बार 2012 में सुप्रीम कोर्ट में किसी मुस्लिम जज की नियुक्ति हुई थी। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक जस्टिस एमवाई इकबाल और जस्टिस फकीर मोहम्मद 2012 में सुप्रीम कोर्ट के जज बने थे। दोनों ही इस साल सेवानिवृत्त हो गए।

जजों की नियुक्ति न होने पर सुप्रीम कोर्ट ने जताई चिंता

सुप्रीम कोर्ट और केंद्र सरकार के बीच उच्चतम न्यायालय में जजों की नियुक्ति को लेकर गतिरोध जारी रहने के कारण नई नियुक्ति में वक्त लग रहा है। इसको लेकर सुप्रीम कोर्ट ने सरकार के प्रति अपनी नाराजगी भी जाहिर की है। वहीं समय-समय पर भारत के मुख्य न्यायधीश ने कई मंचों पर इसको लेकर सरकार से आग्रह भी किया है।

दो हाईकोर्ट में मुस्लिम मुख्य न्यायधीश

मौजूदा समय में देश के दो हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश मुस्लिम हैं। असम के रहने वाले जस्टिस इकबाल अहमद अंसारी बिहार हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश हैं। जस्टिस अंसारी अगले साल अक्टूबर में रिटायर होंगे। जम्मू-कश्मीर के रहने वाले जस्टिस सीजे मंसूर अहमद मीर हिमाचल प्रदेश हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश हैं। जस्टिस मीर अप्रैल 2017 में रिटायर होंगे। हाई कोर्ट के जजों की सेवानिवृत्ति की उम्र 62 साल और सुप्रीम कोर्ट के जजों की 65 है। सुप्रीम कोर्ट में अधिकतम 31 जजों की नियुक्ति हो सकती है। उच्चतम अदालत में फिलहाल 28 जज ही हैं। इस साल के अंत तक चार अन्य जज जस्टिस वी गोपाल गौड़ा, जस्टिस चोकालिंगम, जस्टिस शिव कीर्ति सिंह, जस्टिस अनिल आर दवे रिटायर हो जाएंगे।

रिटायर हो चुके हैं मुस्लिम जज

एक अंग्रेजी अखबार से बात करते हुए भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश केजी बालाकृष्णनन ने इस पर चिंता भी जताई। साथ ही उन्होंने उम्मीद जताई कि जल्द ही अदालत को मुस्लिम जज मिल जाएंगे। सुप्रीम कोर्ट से रिटायर हो चुके 196 और मौजूदा 28 जजों में कुल 17 (7.5 प्रतिशत) जज मुस्लिम रहे हैं। चार मुस्लिम जज जस्टिस एम हिदायतुल्लाह, जस्टिस एम हमीदुल्लाह बेग, जस्टिस एएम अहमदी और जस्टिस अलतमस कबीर सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश रह चुके हैं। सुप्रीम कोर्ट की पहली महिला जस्टिस एम फातिमा बीवी जज भी एक मुस्लिम थीं। उन्होंने 6 अक्टूबर 1989 से 29 अप्रैल 1992 तक सुप्रीम कोर्ट में अपनी सेवाएं दी थीं।

पहले भी हुआ है ऐसा

इससे पहले अप्रैल 2003 से सितंबर 2005 तक सुप्रीम कोर्ट में कोई भी मुस्लिम जज नहीं था। दिसंबर 1988 के बाद ऐसा पहली बार हुआ था कि उच्चतम अदालत में कोई मुस्लिम जज नहीं था। 9 सितंबर 2005 को जस्टिस अलतमस कबीर की सर्वोच्च अदालत में नियुक्ति हुई थी। दिसंबर 2012 से अप्रैल 2013 के बीच सुप्रीम कोर्ट में मुख्य न्यायाधीश अलतमस कबीर, जस्टिस आफताब आलम, जस्टिस इकबाल और जस्टिस कैफुल्लाह के तौर पर चार मुस्लम जज थे।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>