ईडी ने अदालत से की माल्या को भगोड़ा घोषित करने की मांग

Jun 11, 2016
ईडी ने पीएमएलए अदालत में अर्जी देकर शराब कारोबारी विजय माल्या को भगोड़ा घोषित करने की गुहार लगाई है।

नई दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मुंबई के विशेष पीएमएलए अदालत में अर्जी देकर शराब कारोबारी विजय माल्या को भगोड़ा घोषित करने की गुहार लगाई है। बैंक कर्ज घोटाला मामले में माल्या के खिलाफ ईडी मनी लांड्रिंग की जांच में जुटी है। एजेंसी ने शुक्रवार को इसी जांच से संबंधित अर्जी दायर की है।

अधिकारियों ने बताया कि एजेंसी ने अदालत से आपराधिक दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 82 के तहत एक आदेश जारी करने का आग्रह किया है। मनी लांड्रिंग रोकथाम अधिनियम (पीएमएलए) के तहत गैर जमानती वारंट (एनबीडब्ल्यू) सहित माल्या के खिलाफ कई गिरफ्तारी वारंट लंबित हैं। ईडी की अर्जी पर अदालत 13 जून को आदेश दे सकती है।

माल्या के खिलाफ चेक बाउंस जैसे मामले में गिरफ्तारी वारंट लंबित हैं और मनी लांड्रिंग मामले में भी वह वांछित हैं। एजेंसी ने अदालत को अपनी जांच की स्थिति की जानकारी दी और जांच में माल्या के शामिल होने की जरूरत बताई। अधिकारी ने कहा कि एजेंसी ने मनी लांड्रिंग विरोधी अदालत से संपर्क साधा था जहां से माल्या के खिलाफ एनबीडब्ल्यू जारी हुआ था।

कौन होता है भगोड़ा घोषित
आपराधिक मामले में जिस आरोपी के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी हो चुका है वह वारंट तामील नहीं होने देने के लिए भागा हुआ हो या छिप रहा हो। इस तथ्य पर अदालत के भरोसा कर लेने पर आरोपी को भगोड़ा घोषित किया जाता है। सीआरपीसी की धारा 82 के तहत अदालत एक लिखित घोषणा जारी कर सकती है। इसमें आरोपी को बताई गई जगह और समय पर 30 दिनों के भीतर हाजिर होने के लिए कहा जाता है।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>