प्रधानमंत्री मोदी की मंजूरी के बाद चतुर्वेदी बने सीबीएसई के नए अध्यक्ष

Jul 15, 2016
पीएम मोदी की अध्यक्षता में गुरुवार को हुई कैबिनेट की नियुक्ति समिति सीबीएसई के अध्यक्ष पद के लिए राजेश कुमार चतुर्वेदी के नाम को मजूरी दे दी है।

नई दिल्ली (जेएनएन)। मध्य प्रदेश कैडर के भारतीय प्रशासनिक सेवा (आइएएस) अधिकारी राजेश कुमार चतुर्वेदी अब केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के अध्यक्ष होंगे। पांच साल के लिए उनकी इस पद पर नियुक्ति को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंजूरी दे दी है।

पिछले डेढ़ साल से ज्यादा समय से यह पद खाली था। मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने इससे पहले जो दो नाम सुझाए थे उनको मंजूरी नहीं मिल पाई थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में गुरुवार को हुई कैबिनेट की नियुक्ति समिति (एसीसी) ने 1987 बैच के मध्य प्रदेश कैडर के चतुर्वेदी के नाम को मजूरी दे दी है।

इससे पहले प्रधानमंत्री ने मंत्रालय की ओर से भेजे गए सर्वेद्र विक्रम बहादुर सिंह के प्रस्ताव को खारिज कर दिया था। मंगलवार को ही कार्मिक मंत्रालय की ओर से मानव संसाधन विकास (एचआरडी) मंत्रालय को सूचना दी गई थी कि ना सिर्फ सिंह के नाम को एसीसी ने ठुकरा दिया है, बल्कि सीबीएसई चेयरमैन की नियुक्ति की पूरी प्रक्रिया को ही रद्द कर दिया है। इसमें यह भी बताया गया था कि अब नए चेयरमैन की नियुक्ति सेंट्रल स्टाफिंग स्कीम के तहत की जाएगी।

इसके बाद नए चेयरमैन के रूप में चतुर्वेदी के चयन की प्रक्रिया आश्चर्यजनक रूप से बेहद तेजी से पूरी कर ली गई। गुरुवार रात को जब इस नियुक्ति की सूचना कार्मिक मंत्रालय ने जारी की तो एचआरडी मंत्रालय के भी तमाम अधिकारी हैरान रह गए। उन्हें यह उम्मीद नहीं था कि इसी हफ्ते जहां मंत्रालय के पैनल को ठुकराया गया है, वहां इतनी जल्दी दूसरे अधिकारी के चयन की प्रक्रिया पूरी कर उनकी नियुक्ति को एसीसी की मंजूरी भी दिला दी जाएगी।

सीबीएसई के चेयरमैन का पद दिसंबर, 2014 से ही खाली है। इस दौरान ईरानी ने दो बार मंत्रालय की ओर से इसके लिए नाम प्रस्तावित किए थे। चतुर्वेदी की केंद्रीय प्रतिनियुक्ति दिसंबर, 2020 तक है। सीबीएसई चेयरमैन का पद केंद्र सरकार के संयुक्त सचिव के स्तर का है।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>