आंध्र को विशेष राज्य का दर्जा देने पर फैसला जल्द : वित्त मंत्री

Aug 08, 2016
वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि केंद्र सरकार आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने पर जल्द फैसला लेगी।

नई दिल्ली। आंध्र प्रदेश को विशेष राज्या का दर्जा दिए जाने के मुद्दे पर वित्त मंत्री ने कहा कि केंद्र, राज्य सरकार के साथ लगातार संपर्क में है। बातचीत अंतिम चरण में है, इस मुद्दे पर जल्द ही फैसला लिया जाएगा। पिछले सप्ताह भर से अधिक समय से लोकसभा में नारेबाजी कर रहे वाईएसआर कांग्रेस के सदस्यों को वित्त मंत्री अरूण जेटली ने कहा कि वह पहले भी कई बार सदन में इस संबंध में आश्वासन दे चुके हैं। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने आंध्र प्रदेश के मुद्दे का संज्ञान लिया है और वह इस बात से सहमत है कि विभाजन के समय राजस्व और वित्त के मामले में आंध्र प्रदेश के साथ अन्याय हुआ है जिसकी भरपाई की जानी चाहिए।

जेटली ने कहा कि इस मसले पर प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू के साथ बातचीत काफी अग्रिम चरण में है और सरकार जल्द ही किसी समाधान पर पहुंचेगी। इससे पूर्व कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि वाईएसआर कांग्रेस के सदस्य इतने दिनों से इस मुद्दे को उठा रही है और सरकार सुनने को तैयार नहीं है। उन्होंने इस मुद्दे का जल्द समाधान निकालने की मांग की।

सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव ने भी आसन से कड़ी नाराजगी जतायी और कहा कि वाईएसआर कांग्रेस सदस्य इतने दिन से नारेबाजी कर रहे हैं और सरकार कोई समाधान निकालने की इच्छुक नहीं दिखाई देती। उन्होंने इस बात पर भी नाराजगी जाहिर की कि उन्हें तथा अन्य विपक्षी नेताओं को अध्यक्ष ने इस मुद्दे पर बातचीत करने के लिए नहीं बुलाया। वाईएसआर कांग्रेस के एम राजू मोहन रेड्डी ने इस मुद्दे पर कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने का वादा किया था और उस समय की विपक्षी पार्टी भाजपा ने इसका समर्थन किया था। भाजपा ने अपने चुनावी घोषणापत्र में भी इसका वादा किया था। इस वादे पर विश्वास कर जनता ने भाजपा को केंद्र में और तेलुगू देशम पार्टी को राज्य में सत्ता सौंपी लेकिन अब केंद्र सरकार वादे से मुकर रही है।

इससे पूर्व सुबह सदन में प्रश्नकाल शुरू होते ही वाईएसआर कांग्रेस के सदस्य आसन के समीप आकर आंध्र प्रदेश के लिए विशेष दर्जे की अपनी मांग दोहराने लगे। लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने नारेबाजी कर रहे सदस्यों से अपनी सीटों पर जाने को कहा और उन्हें दो बार चेतावनी भी दी। लेकिन वाईएसआर कांग्रेस के सदस्यों ने नारेबाजी जारी रखी। प्रश्नकाल और शून्यकाल में नारेबाजी जारी रही। वाईएसआर कांग्रेस के सदस्य पिछले सप्ताह से नारेबाजी कर रहे हैं। पिछले सप्ताह शुरू के दो दिन तक राजग में सहयोगी तेलगूदेशम पार्टी के सांसदों ने भी लोकसभा में नारेबाजी की थी। आज शून्यकाल के दौरान तेदेपा के राममोहन नायडू ने इस मुद्दे को उठाया था।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>