सेक्स टेप वाले मंत्री की तुलनाआप प्रवक्ता आशुतोष ने महात्मा गांधी से की

Sep 02, 2016
सेक्स टेप वाले मंत्री की तुलनाआप प्रवक्ता आशुतोष ने महात्मा गांधी से की
आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता आशुतोष ने सेक्स सीडी कांड में फंसे संदीप कुमार का बचाव करते हुए उसकी तुलना महात्मा गांधी से कर दी।

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली : आम आदमी पार्टी (आप) के प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने अपने जिस मंत्री को ‘गंदी मछली’ बताकर दिल्ली सरकार की कैबिनेट से निकाल बाहर किया, पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता आशुतोष उसी के बचाव में उतर आए हैं। दिल्ली के पूर्व कैबिनेट मंत्री संदीप कुमार के बचाव में उन्होंने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का नाम लेने में भी हिचकिचाहट नहीं दिखाई। वैसे इस पूरे प्रकरण में पंजाब चुनाव की झलक भी देखी जा रही है।

पूर्व मंत्री के पक्ष में आशुतोष ने कहा, ‘भारतीय इतिहास ऐसे नेताओं और हीरो के उदाहरणों से भरा पड़ा है जिन्होंने अपनी सामाजिक सीमाओं के आगे जाकर अपनी इच्छाओं के मुताबिक जीवन जीया। पंडित जवाहर लाल नेहरू के विभिन्न सहयोगियों के साथ अफेयर की बातें खूब रस लेकर सुनाई जाती थीं, लेकिन इसने उनके राजनीतिक जीवन को कभी प्रभावित नहीं किया। ..इतिहास इस तथ्य का भी गवाह है कि बीती सदी के दूसरे दशक में गांधीजी के सरला चौधरी के साथ रिश्तों को लेकर कांग्रेस के शीर्ष नेता चिंतित थे। ..गांधीजी ने खुद सरला को अपनी आध्यात्मिक पत्नी बताया था। इससे कस्तूरबा गांधी बेहद विचलित थीं।’ आशुतोष का कहना है कि संदीप कुमार को सिर्फ सार्वजनिक जीवन में होने का नुकसान झेलना पड़ा है। उनके मुताबिक, ‘ऐसे लोगों को भी यह हक है कि वे अपने निजी मामलों में दूसरों को ताक-झांक न करने दें।

पढ़ें-

आशुतोष के इस बयान के बारे में पूछे जाने पर पार्टी के एक अन्य प्रवक्ता दिलीप पांडे ने कहा, ‘संदीप कुमार को कैबिनेट से निकाले जाने को लेकर पार्टी में कोई दो राय नहीं है। पीएसी की जिस बैठक में यह फैसला किया गया, उसमें आशुतोष भी थे। लेकिन वे दो दशक से ज्यादा समय तक पत्रकार रहे हैं। पत्रकार होने के नाते यह बयान देकर उन्होंने मीडिया ट्रायल पर सवाल खड़े किए हैं। पार्टी के फैसले पर कोई सवाल नहीं उठाया है।’

पढ़ें-

दरअसल, इस मामले में बिना किसी जांच या सुनवाई के कैबिनेट से निकाले जाने के बाद संदीप ने कहा कि उन्हें दलित होने का नुकसान झेलना पड़ा है। पंजाब विधानसभा चुनाव में दांव लगा रही आप नहीं चाहती कि इस मामले को लेकर दलितों के बीच गलत संदेश जाए। ऐसे में मुमकिन है कि आशुतोष का बचाव पार्टी की राजनीति का ही हिस्सा हो।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>