टावरों से नेटवर्क चुरा खोली फर्जी इंटरनेट कंपनी, BSNL को लगाया करोड़ों का चूना

Jun 26, 2016
राजस्थान के सीकर में एक युवक ने बीएसएनएल को करोड़ों का चूना लगा दिया। यह एक फर्जी कंपनी खोल बीएसएनएल के नेटवर्क का इस्तेमाल करता था।

जागरण संवाददाता, जयपुर : देश की सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी बीएसएनएल को एक बीए पास युवक ने करोड़ों का चूना लगा दिया। युवक ने पांच वर्ष पूर्व एक फर्जी इंटरनेट कंपनी खोल ली और किसी भी दूरसंचार कंपनी को इसकी भनक तक नहीं लगी।

राजस्थान में सीकर जिले की लक्ष्मणगढ़ तहसील के रणवीर सिंह नामक इस युवक ने बीएसएनएल सहित निजी कंपनियों के टॉवरों पर रेडियोसेट और रिसीवर लगा दिए और गांवों में लोगों के घरों पर छोटे एंटीना के साथ ट्रांसमीटर भी लगाए। अपने कार्यालय से टॉवर पर लगे ट्रांसमीटर के जरिए इसे फ्रीक्वेंसी से कनेक्ट कर दिया एवं इंटरनेट सेवा शुरू कर दी।

ये भी पढ़ें :-  मेरी भाजपा से अपील है कि, देश में जाति व धर्म के नाम पर माहौल खराब नहीं करो: गुलाम नबी

बीएसएनएल की क्षेत्रवार वार्षिक रिपोर्ट 2014-2015 जब सामने आई तब जाकर मामले की जानकारी हुई। रिपोर्ट में पता चला कि सीकर जिले में बीएसएनएल के कनेक्शन निरंतर कम हो रहे हैं, वहीं नए कनेक्शन भी कोई नहीं ले रहा। मुख्यालय ने जांच शुरू कराई। जांच में सामने आया कि सिटीनेट एंड कम्प्यूटर केयर नाम की कंपनी अवैध तरीके से लोगों को ब्राडबैड एवं वाईफाई कनेक्शन सस्ती दरों पर उपलब्ध करा रही है। क्षेत्र के उपखंड अधिकारी हुकमाराम डूडी ने बताया कि टीम ने इलाके में जांच की। इसमें सिटीनेट एंड कंप्यूटर केयर सहित अन्य फर्जी कंपनियों के नाम सामने आए।

ये भी पढ़ें :-  फेसबुक वाला लव: युवती को मिलने के लिए बहार बुलाया, फिर वह उसे एक फ्लैट में ले गया..

सिटीनेट एंड कंप्यूटर केयर का संचालक रणवीर सिंह जयपुर में एक इंटरनेट कंपनी में काम करता था। यहीं से उसने ऐसा करने की योजना बनाई। वह राज्य के सभी शहरों में इस तरह की इंटरनेट सेवा उपलब्ध कराने की योजना बना रहा था इसी बीच उसे गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया गया।

अब बीएसएनएल ने फर्जी इंटरनेट कंपनियों की जांच करने के लिए राज्यभर में अधिकारियों को अलर्ट कर दिया है। सीकर जिले के बीएसएनएल महाप्रबंधक ओपी जांगिड़ ने बताया कि इस तरह के अपराध पर नजर रखने के लिए वीओटी की विजिलेंस सेल बनी हुई है। मामले की शिकायत सेल को भेजी गई है। पुलिस एवं आयकर विभाग नियमानुसार कार्रवाई करेंगे।

ये भी पढ़ें :-  'बैंकों को शीर्ष 50 कर्जदारों को 2.4 लाख करोड़ की छूट देने की जरूरत'

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>