SIT ने शुरू की नजीब को खोजने की प्रक्रिया

Oct 26, 2016
SIT ने शुरू की नजीब को खोजने की प्रक्रिया

नजीब अहमद के JNU से रहस्यमय हालत में लापता होने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। जेएनयू छात्रसंघ समेत तमाम वामपंथी छात्र संगठन जहां इस मुद्दे का राजनीतिकरण कर सांप्रदायिक रंग देने में जुट गए हैं। वहीं छात्र नेताओं के मंसूबे को ध्वस्त करने के लिए दिल्ली पुलिस ने भी पूरी तरह कमर कस ली है। इस प्रकरण की जांच के लिए दस सदस्यीय एसआइटी(विशेष जांच दल) गठित कर दी गई है।

दैनिक जागरण में छपी खबर के अनुसार, गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने पुलिस आयुक्त को तुरंत एसआइटी गठित कर जांच करने के निर्देश दिए। 1 एसआइटी में दक्षिण जिला के डीसीपी ईश्वर सिंह, एडिशनल डीसीपी मनीषी चंद्रा, एसीपी वसंत विहार केपी कुकरेती, थानाध्यक्ष वसंतकुंज उत्तरी गगन भाष्कर, जांच अधिकारी इंस्पेक्टर मुकेश व कुछ टेक्नीकल सहित दस लोगों को शामिल किया गया है। टीम ने बृहस्पतिवार से ही जांच शुरू कर दी है। विशेष आयुक्त कानून व्यवस्था पी.कामराज प्रतिदिन एसआइटी से अपडेट लेंगे।

ये भी पढ़ें :-  विडियो: भाजपा नेता ने की गुंडागर्दी, दलितों से गंदे तालाब में लगवाई डुबकी

1एडिशनल डीसीपी दक्षिण जिला नुपुर प्रसाद ने बताया कि 15 अक्टूबर को नजीब अहमद की मां ने पुलिस में उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई। उसके बाद ही सभी राज्यों की पुलिस को जिपनेट व अन्य माध्यम से नजीब अहमद के बारे में जानकारी दे दी गई। पुलिस ने इस मामले को लेकर कई छात्र, शिक्षक व परिजनों के बयान दर्ज कर लिए हैं।

एबीवीपी के छात्रों का दावा है कि वामपंथी छात्र संगठन से जुड़े छात्र नजीब को कैंपस में ही छिपाए हुए हैं। क्योंकि फरवरी महीने में देशद्रोह के आरोपी छात्रों को भी जेएनयू कैंपस में ही छिपाया गया था। हालांकि जेएनयू प्रशासन नजीब को कैंपस में ढूंढ़ने की लगातार कोशिश कर रहा है। इस संबंध में मामला भी दर्ज कराया गया है। वहीं तीन दिन पहले वसंतकुंज उत्तरी थाना पुलिस नजीब के बारे में सुराग बताने वालों को 50 हजार रुपये ईनाम देने की घोषणा की है।

ये भी पढ़ें :-  चलती ट्रेन में अश्लील हरकत करने लगे बदमाश, रेप से बचने के लिए मां-बेटी ने लगा दी छलांग

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>