म्यांमार: ऐतिहासिक सत्ता आंग सान सू की के करीबी सहयोगी ने राष्ट्रपति पद की ली शपथ

Mar 30, 2016

सैन्य शासन के खात्मे के बाद म्यांमार की जनाकांक्षाओं को आगे बढ़ाते हुए आंग सान सू की के करीबी सहयोगी ने बुधवार को राष्ट्रपति पद की शपथ ली.

म्यांमार में 2011 से दूरगामी सुधार करने वाले पूर्व जनरल थीन सीन से हतीन क्याव ने सत्ता ग्रहण किया.

सैन्य शासकों की ओर से निर्मित संविधान में सू की (70) के म्यांमार की राष्ट्रपति बनने पर रोक है, लेकिन इसमें यह भी घोषणा की गई है कि वह अन्य माध्यम से सरकार का नेतृत्व कर पाएंगी.

नवंबर में हुए चुनावों में सू की की पार्टी ‘नेशनल लीग फॉर डेमोक्रेसी’ के जीत दर्ज करने के लंबे समय बाद राजधानी नायपीदो में सैन्य शासकों द्वारा निर्मित संसद में सत्ता हस्तांतरण की अंतिम प्रक्रिया सम्पन्न हुई.

सैन्य शासन के बाद सत्ता परिवर्तन के लिए एनएलडी को व्यापक जनादेश मिला और पार्टी ने संसदीय सीटों में 80 प्रतिशत से जीत दर्ज की.

शपथ ग्रहण करते हुए हतीन क्याव ने ‘‘म्यांमा संघ के गणराज्य की जनता के प्रति निष्ठावान’’ रहने की शपथ ली.

नोबेल पुरस्कार विजेता सू की के स्कूली मित्र रहे 69 वर्षीय हतीन क्याव ने कहा, ‘‘मैं संविधान और कानून का पालन करूंगा और उन्हें बुलंद रखूंगा. मैं अपनी क्षमता के अनुसार अपनी जिम्मेदारियों का निष्ठापूर्वक निर्वहन करूंगा.’’

राष्ट्रपति के शपथ ग्रहण के बाद स्पीकर ने सू की और जनजातीय क्षेत्रों से मंत्रियों सहित कैबिनेट को शपथ दिलाई. सू ची के पास विदेश मंत्री समेत कैबिनेट के कई पद हैं.

बहरहाल, शपथ ग्रहण के दौरान सेना की वर्दी में तीन व्यक्ति वहां मौजूद थे, जो नई सरकार में सेना की स्थायी भागीदारी का संकेत है.

सेना के बनाए हुए संविधान में संसदीय सीटों में सेना को एक चौथाई हिस्सा हासिल है.

राजनीतिक विशेषज्ञ खिन जॉ विन ने कहा, ‘‘देश बदलाव के लिए तत्पर और तैयार है.’’

एनएलडी पर निवर्तमान सरकार के सुधारों को तत्परता से आगे बढ़ाने का दबाव है.

सैन्य शासन में पूर्व वरिष्ठ जनरल ने कहा कि निवर्तमान राष्ट्रपति थीन सीन ने म्यांमा में कई आश्चर्यजनक राजनीतिक बदलाव को आगे बढ़ाया.

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>