मुस्लिम वोट बैंक को मंडी का माल न समझे, उन्हें अपनी तरह समझें: मोदी

Sep 26, 2016
मुस्लिम वोट बैंक को मंडी का माल न समझे, उन्हें अपनी तरह समझें: मोदी

पीएम मोदी ने रविवार को वैकल्पिक राजनीति शुरू करने की आवश्यकता पर जोर दिया, जिसकी वकालत जनसंघ के विचारक पं.दीनदयाल उपाध्याय ने भी की थी। पीएम मोदी ने कहा कि उपाध्याय हमेशा सुझाव देते थे कि किसी भी वर्ग के लोगों को उपेक्षित नहीं छोड़ना चाहिए या वोट का उपकरण नहीं समझना चाहिए।

भारतीय जनसंघ के संस्थापक और सत्ताधारी भाजपा के पूर्वज पं. दीनदयाल उपाध्याय को मोदी ने याद किया, जो कहते थे कि मुसलमानों को न तो केवल वोट का उपकरण समझना चाहिए और न ही उनकी उपेक्षा होनी चाहिए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दीनदयाल उपाध्याय की शताब्दी समारोह के मौके पर केरल के कोझिकोड में बीजेपी राष्ट्रीय परिषद को संबोधित किया। पीएम ने इस दौरान कहा कि यह देश 125 करोड़ की आबादी वाला है। इस जवानी वाले देश के सपने और संकल्प भी जवान होने चाहिए।

ये भी पढ़ें :-  आजम के बिगडे बोल-मुसलमान अधिक बच्चे पैदा करते हैं, क्योंकि वे बेरोज़गार हैं

पीएम मोदी ने कहा कि वे लोगों के कल्याण में खुद को खपा देंगे। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद राजनीति में गिरावट आई है। कुछ लोगों के कारण राजनीति के स्तर में गिरावट आई है। राजनीति में दोबारा सम्मान लौटाना जरूरी है। पीएम मोदी ने कहा कि दीनदयाल उपाध्याय जी कहते थे कि मुसलमानों को पुरस्कृत और तिरस्कृत नहीं किया जाना चाहिए, उन्हें वोट की मंडी ना समझें बल्कि अपना समझें। पीएम ने कहा कि ऐसा माहौल बना दिया गया है कि देशभक्ति को भी कोसा जाता है। हमें समाज के निचले वर्ग का विकास करना है। हमारी विकास यात्रा में कोई पीछे नहीं रह सकता। हमारी विकास यात्रा में कोई पीछे नहीं रह सकता।

ये भी पढ़ें :-  लालू यादव के विवादित बोल, पीएम नरेंद्र मोदी हिजड़ा है और अमित शाह गैंडा

पीएम मोदी बोले महात्मा गांधी की जयंती दो अक्तूबर को भारत पेरिस में ‘कान्फ्रेंस आफ पार्टीज’ में हुए निर्णयों का अनुमोदन करेगा। दुनिया ने माना पर्यावरण में भारत को योगदान सबसे ज्यादा। गांधी जी ने पर्यावरण में अविस्मरणीय योगदान दिया। पीएम ने कहा कि भारत सरकार की सभी योजनाओं के केंद्र बिंदु में गरीब है। हमारी सरकार समाज के आखिरी व्यक्ति के कल्याण को प्रतिबद्ध है।

पीएम मोदी बोले चुनाव सुधार पर मंथन होना चाहिए। अलग-अलग चुनाव होने से देश पर बोझ पड़ता है। किसी का वोट देने से वंचित रहना ही पीड़ादायक । कई चीजों को जोड़कर लोकतंत्र को स्वस्थ किया जा सकता है। देश में चुनाव सुधार पर सेमिनार होने चाहिए। इस पर व्यापक चर्चा होनी चाहिए। आम आदमी को मजबूत बनाने के लिए चुनाव सुधार जरूरी।

ये भी पढ़ें :-  भाजपा में आईएसआई की घुसपैठ संघ के लिए खतरे की घंटी : अवशेषानंद

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected