मुस्लिम छात्रा ने पीएम मोदी को लिखा पत्र: सर! एक लड़का एक साल से परेशान कर रहा है….

Sep 20, 2017
मुस्लिम छात्रा ने पीएम मोदी को लिखा पत्र: सर! एक लड़का एक साल से परेशान कर रहा है….

एक मुस्लिम छात्रा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखते हुए उनसे अपनी सुरक्षा की गुहार लगाई है। छात्रा ने पीएम मोदी को लिखे गए पत्र में बताया कि पिछले एक साल से एक युवक उसको परेशान कर रहा है, और अब उसके लिए घर से बाहर निकलना मुश्किल हो गया है।

बता दें कि न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक ये छात्रा कॉलेज में पढ़ती है। वह अपने साथ होने वाली छेड़खानी की शिकायत भी पुलिस से कर चुकी है। लेकिन आरोपी युवक अपनी इन आदतों से रुक नहीं रहा है। जिसके बाद छात्रा ने मजबूर होकर पीएम मोदी से अपनी सुरक्षा की गुहार लगाई है। छात्रा ने पत्र में लिखा है कि ‘वह अपनी पढ़ाई के प्रति काफी सजग है, लेकिन उसके पड़ोस में रहने वाले एक लड़के की हरकतों से उसे काफी परेशानी हो रही है। लड़का रास्ते में उसके साथ छेड़खानी करता है, और कई बार तो उसने उसका रास्ता तक रोकने की कोशिश की।

ये भी पढ़ें :-  भ्रष्टाचार पर जीरो टोलेरेंस की बात कहने वाली भाजपा नैतिक आधार खो चुकी है: यशवंत सिन्हा

इसी साल मार्च में कर्नाटक के मांड्या की मुस्लिम छात्रा सारा ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर अपनी एजुकेशन लोन के लिए मदद मांगी थी। जिसके बाद पीएम मोदी के कहने पर छात्रा को बैंक ने 1.5 लाख रुपए का लोन स्वीकृत कर दिया था। हालांकि छात्रा का एजुकेशन लोन दूसरे बैंक से मिला है। जिस की वजह ये बताई जा रही है कि सारा ने इस से पहले इस बैंक से एजुकेशन लोन ले चुकी थीं। इसलिए बैंक ने उनको दोबारा लोन देने से मना करते हुए कहा पहले पुराना लोन चुकाना पड़ेगा उसके बाद ही दूसरा दिया जाएगा। मांड्या में रहने वाले अब्दुल इलियास की बेटी सारा ऊंची शिक्षा हासिल करना चाहती थी। लेकिन उसके पिता के पास पर्याप्त पैसे नहीं थे। जिसके लिए सारा ने बैंक में एजुकेशन लोन के लिए आवेदन किया था।

ये भी पढ़ें :-  ये है RSS का बड़ा मंसूबा, इसी लिए योगी को राष्ट्रीय स्तर पर प्रोजेक्ट कर रही है

जिसके बाद छात्रा ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर लोन दिलाने में मदद करने की मांग करते हुए सारा ने पीएम मोदी को लिखे पत्र में ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ योजना का जिक्र किया था। जिसके बाद छात्रा के पत्र पर पीएम मोदी के कार्यालय ने तुरंत एक्शन लेते हुए कर्नाटक के मुख्य सचिव को पत्र लिखकर सारा को लोन दिलाने में मदद करने का आदेश दिया। जिसके बाद सारा को विजया बैंक से एजुकेशन लोन मिल गया। विजया बैंक के मैनेजर क्षेमा कुमार का कहना है कि ‘सारा के पिता का बैकग्राउंड और देखकर लोन स्वीकृत किया गया है’

ये भी पढ़ें :-  सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला: 18 साल से कम उम्र की पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाना ‘बलात्‍कार’
लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>