मुंबई : भाजपा नेता पर पूर्व हॉकी खिलाड़ी ने लगाया ठगी का आरोप

Feb 10, 2017
मुंबई : भाजपा नेता पर पूर्व हॉकी खिलाड़ी ने लगाया ठगी का आरोप

देश के पूर्व अंतर्राष्ट्रीय हॉकी खिलाड़ी धनंजय महाडिक ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के एक स्थानीय नेता विनय त्रिपाठी पर उनकी गाढ़ी कमाई धोखाधड़ी के जरिए ठगने का आरोप लगाया है। महाडिक की शिकायत पर भायखला पुलिस थाने में त्रिपाठी सहित तीन लोगों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 420, 406, और 407 के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। अन्य दो लोगों में कंपनी के सहमालिक राजेश गोकर्ण और एक अन्य सहमालिक सुप्रित मंजूनाथन उर्फ सैंडी हैं।

मामले की जांच कर रहे भायखला पुलिस थाने के उप निरीक्षक सत्यवान गोविंद पवार ने प्राथमिकी दर्ज होने की बात तो स्वीकारी, लेकिन इस मामले में आगे कुछ भी बताने से इनकार कर दिया।

त्रिपाठी आगामी बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) चुनाव में दक्षिण मुंबई के मुंबादेवी वार्ड संख्या 213 से भाजपा प्रत्याशी हैं और रियल एस्टेट कंपनी ‘मार्क कंस्ट्रक्शंस’ के सह-मालिक हैं।

देश के लिए 64 अंतर्राष्ट्रीय मैच खेल चुके महाडिक का कहना है कि उन्होंने त्रिपाठी की कंपनी मार्क कंस्ट्रक्शंस की ग्रांड रोड स्थित एक रिहायशी परियोजना में फ्लैट बुक कराया था, जिसके लिए उन्होंने कंपनी को 2011 में 41 लाख 31 हजार रुपये दिए थे। लेकिन, फ्लैट मिलना तो दूर अब तक इमारत बननी ही शुरू नहीं हुई है।

इस समय आयकर विभाग में सेवारत महाडिक ने आईएएनएस से कहा, “मैं त्रिपाठी को एक मित्र के माध्यम से जानता था। उन्होंने कहा था 2014 तक फ्लैट तैयार हो जाएंगे। लेकिन, वहां अभी भी पुरानी जर्जर इमारत उसी तरह पड़ी हुई है और काम शुरू तक नहीं हुआ है।”

महाडिक ने कहा, “अब रुपये वापस मांगने पर त्रिपाठी दंबगई पर उतर आए हैं। उनकी धौंस के चलते पुलिस भी कार्रवाई नहीं कर रही।”

महाडिक के अनुसार, उन्होंने 2013 में मुंबई पुलिस के तत्कालीन आयुक्त राकेश मारिया से शिकायत की, हॉकी इंडिया (एचआई) के अध्यक्ष नरिंदर बत्रा से मदद मांगी और मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से भी गुहार लगाई। लेकिन त्रिपाठी के खिलाफ प्राथमिकी पिछली चार फरवरी को दर्ज की गई और कार्रवाई के नाम पर अभी भी सबकुछ सिफर है।

महाडिक के अनुसार, त्रिपाठी ने बाद में हालांकि उन्हें तीन चेक दिए थे, लेकिन तीनों ही चेक बाउंस हो गए।

भाजपा के मुंबई प्रदेश अध्यक्ष आशीष शेलार ने कहा कि त्रिपाठी इस मामले में अभी दोषी नहीं पाए गए हैं और वह बीएमसी का चुनाव लड़ेंगे।

शेलार ने आईएएनएस से कहा, “यह मामला न्यायाधीन है, जिसमें त्रिपाठी अभी दोषी नहीं ठहराए गए हैं। इसलिए उन्हें बीएमसी चुनाव से हटाने का सवाल ही नहीं उठता।”

महाडिक के अनुसार, त्रिपाठी लगभग 100 अन्य लोगों से भी इसी तरह रुपये ले चुके हैं।

कथित तौर पर त्रिपाठी की ठगी के शिकार एक अन्य व्यक्ति मुकेश जैन कहते हैं, “जब महाडिक जैसे ख्यातिलब्ध व्यक्ति की शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही, तो हमारी कौन सुनेगा।”

मुकेश ने कहा, “मेरे करीब 13-14 दोस्तों और रिश्तेदारों ने भी फ्लैट बुक कराए हैं। फ्लैट बुक कराते समय त्रिपाठी ने छह महीने में काम शुरू होने का वादा किया था। काम न शुरू होने की दशा में हर महीने मुआवजा भी देने के लिए कहा था। लेकिन, अब तो फोन तक नहीं उठाते।”

मुकेश की बात सही निकली, क्योंकि आईएएनएस ने त्रिपाठी से संपर्क करने की कई कोशिशें की, लेकिन उन्होंने फोन नहीं उठाया।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>