अखिलेश यादव और मुलायम सिंह से चुनाव आयोग ने कहा- जिसकी बहुमत होगी ज्यादा, साईकिल उसकी?

Jan 05, 2017
अखिलेश यादव और मुलायम सिंह से चुनाव आयोग ने कहा- जिसकी बहुमत होगी ज्यादा, साईकिल उसकी?

यूपी के सियासी गलियारे में चल रही गहमा- गहमी में चुनाव आयोग ने समाजवादी पार्टी के दोनों गुटो को नोटिस जारी कर अपनी ताकत साबित करने को कहा है। चुनाव आयोग की तरफ से अखिलेश यादव और मुलायम सिंह से कहा गया है कि अपने-अपने समर्थन में सभी सांसदों, विधायकों और विधान पार्षदों का हस्ताक्षर युक्त शपथ पत्र 9 जनवरी तक आयोग को सौंप दें, ताकि आयोग जल्द ही इस पर कोई फैसला ले सके। हालाँकि सूत्रों की माने तो समाजवादी पार्टी के दोनों गुटो में सुलह की कोशिश अभी भी जारी है।

चुनाव आयोग ने पहले ही उत्तर प्रदेश समेत पांच राज्यों में चुनाव की तारीखों का एलान कर चुका है। इसलिए आयोग इस मसले को जल्द से जल्द निपटान चाहता है। इसीलिए आयोग ने 9 जनवरी तक का टाइम दिया है। देखा जाये तो कुछ दिन पहले समाजवादी पार्टी के दोनों गुट चुनाव आयोग के सामने अपनी-अपनी दावेदारी ठोकी है।

खबरों के मुताबिक, रामगोपाल यादव ने मंगलवार को चुनाव आयोग में कुछ दस्तावेज सौंपे हैं, उसमें दावा किया गया है कि अखिलेश यादव गुट ही समाजवादी पार्टी का असली हक़दार है। कागजात में यह भी दावा किया गया है कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को विधान सभा, विधान परिषद और लोकसभा, राज्य सभा के अधिकांश निर्वाचित सदस्यों का समर्थन प्राप्त है। करीब 100 पन्नों के इस कागजात में 5000 से ज्यादा पार्टी प्रतिनिधियों और 90 फीसदी सांसदों, विधायकों और विधान पार्षदों के हस्ताक्षर शामिल हैं। दूसरी तरफ मुलायम द्वारा सौंपे गए कागजात में कुछ लोगों के ही हस्ताक्षर हैं। बावजूद इसके आयोग ने दोनों गुटों से समर्थन दे रहे पार्टी प्रतिनिधियों के हस्ताक्षर युक्त शपथ पत्र सौंपने को कहा है। आयोग के अनुसार, हस्ताक्षर युक्त शपथ पत्रों के आधार पर ही चुनाव आयोग यह निर्णय लेगा कि किसके पक्ष में बहुमत है और जिस पक्ष के पास बहुमत होगा उसे पार्टी का चुनाव चिह्न इस्तेमाल करने की इजाजत दी देगा।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>