“मोरा सईया कोतवाल” कहावत तो सुनी होगी, इन जनाब पर बिल्कुल फिट बैठती है

Jul 18, 2016

रायगढ़. बरमकेला नगर पंचायत में पत्नी राज का फायदा उनके पति के द्वारा जमकर उठाया जा रहा है। बकायदा इसकी तस्वीर भी वायरल हो चुकी है और उक्त तस्वीर में यह आरोप सच साबित हो रहा है कि अध्यक्ष के समकक्ष उनके पति की भी कुर्सी लगती है। जो नगर पंचायत के सभी मामले को खुद हैंडल करते हैंं। नपं उपाध्यक्ष की माने तो अध्यक्ष महोदया तो नगर पंंचायत कार्यालय कभी-कभार ही आती हंै, पर उनके पतिदेव नियमित रूप से कार्यालय आने के साथ देर रात तक दरबार भी सजाते हैं। इस मनमानी पर स्थानीय अधिकारी भी चुप्पी साधे हुए हैं।

विवादों में रहने वाली बरमकेला नगर पंचायत एक बार फिर सुर्खियों में हैं। मामला नगर पंंचायत अध्यक्ष वर्षा नायक के पति सालिक राम नायक से जुड़ा हुआ है। जिनकी कुर्सी अध्यक्ष के कुर्सी के समकक्ष लगती है। वहीं देर रात तक अध्यक्ष पति द्वारा सहयोगियों के साथ दरबार भी लगाया जाता है। जिसका आरोप बरमकेला नगर पंचायत के अध्यक्ष मनीष नायक द्वारा लगाया जा रहा है।

ये भी पढ़ें :-  नोटबंदी के सौ दिन में बर्बाद हो गया देश, जयपुर में आप कार्यकर्ता भड़के

इस बीच अध्यक्ष पति की एक फोटो सोशल मीडिया में वायरल हुआ है। जिसमें सालिक राम, अध्यक्ष की कुर्सी केे समकक्ष कुर्सी पर सो रहे हैं। वहीं उनका पांव एक अन्य कुर्सी पर है। उपाध्यक्ष की माने तो अध्यक्ष पति की मनमानी, कोई नई बात नहीं है। जिसकी वजह से नगर पंचायत का विकास कार्य ठप है। अधिकांश फैसले अध्यक्ष की बजाए उनके पति द्वारा लिए जाते हैं। ऐसे में, कुल मिलाकर यह कहना गलत नहीं होगा कि नगर पंचायत को अध्यक्ष वर्षा नायक के पति सालिक राम द्वारा ही संचालित किया जा रहा है। इस मामले पर आरोपो से घिरे सालिक राम की माने तो उन्हें फंसाने को लेकर यह साजिश रची गई है। पर अध्यक्ष के चेंबर में समकक्ष कुर्सी लगाने व फोटो वायरल होने के सवाल पर अध्यक्ष पति ने चुप्पी साधते हुए फोन को काट दिया।

ये भी पढ़ें :-  कर्ज में डूबे किसान ने संसद भवन के सामने खाया जहर, वसुंधरा सरकार के दावों पर फेरा पानी

कैसे सशक्त होंगी महिला जनप्रतिनिधि
सरकार ने समाज में महिला की जनभागीदारी बढ़ाने को लेकर आरक्षण नीति के तहत उन्हें जनप्रतिनिधि के रूप मेंं सशक्त बनाया। पर बरमकेला नगर पंंचायत अध्यक्ष वर्षा नायक की तरह जिले में कुछ अन्य महिला जनप्रतिनिधि भी हैं, जो सिर्फ फाइलों में हस्ताक्षर कर अपनी मौजूदगी दर्ज कराती हैं। जबकि उनके अधिकांश फैसले उनके पतिदेव द्वारा लिए जाते हैं। शासकीय बैठक में भी महिला जनप्रतिनिधि के पति की मौजूदगी देखी जाती है। के अध्यक्ष पति द्वारा देर रात तक चेंबर में दरबार सजाने की बात भी चर्चा में रहती है।

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

ये भी पढ़ें :-  बिहार : भूमि विवाद में दंपति की गोली मारकर हत्या
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected