देश के ‘फर्जी बाबाओं’ की लिस्ट जारी करने वाले महंत मोहन दास ट्रेन से हुए लापता

Sep 19, 2017
देश के ‘फर्जी बाबाओं’ की लिस्ट जारी करने वाले महंत मोहन दास ट्रेन से हुए लापता

गुरमीत राम रहीम को दो रेप केसों में 20 साल कैद की सजा मिलने के बाद देश के कई हिस्सों में फर्जी बाबाओं के खिलाफ आवाजें उठीं। जिसके बाद इलाहाबाद में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने देश के 14 फर्जी बाबाओं की लिस्ट जारी कर सरकार से इन बाबाओं को किसी भी प्रोग्राम में न बुलाने की अपील भी की, लेकिन अभी इस लिस्ट के जारी हुए कुछ ही रोज़ गुजरे हैं कि अखाड़ा के प्रवक्ता और उदासी अखाड़ा के महंत मोहन दास के लापता होने की खबर सामने आई है।

मिली जानकारी के अनुसार शुक्रवार को महंत मोहनदास अपने एक सेवक के साथ हरिद्वार से मुंबई जाने के लिए लोकमान्य तिलक एक्सप्रेस गाड़ी क्रमांक 12172 से हरिद्वार निकले थे। वे निजामुद्दीन स्टेशन पर उतरे थे। लेकिन उसके उनको बाद किसी भी यात्री व अटेंडेंट ने नहीं देखा। उनके लापता होने के बाद से उनका फ़ोन भी बंद आ रहा है। जिसके बारे में रेलवे पुलिस का कहना है कि गाड़ी नौ घंटे की देरी से चल रही थी और जब शनिवार रात साढ़े सात बजे भोपाल पहुंची। तो उनके एक सेवादार भोजन देने गाड़ी पर आया तो महंत नहीं मिले। उसने इस बात की सूचना दूसरे लोगों को दी। मालवीय बताती हैं कि जब उन्हें इसकी सूचना मिली तब तक गाड़ी भुसावल स्टेशन तक पहुंच चुकी थी। भुसावल जीआरपी ने संबंधित कोच ए-वन की सीट 22 पर जाकर देखा तो वहां कुछ सामान रखा हुआ था। लेकिन महंत नहीं थे। जिसेक बाद से उनके फ़ोन पर भी उसने संपर्क करने की कोशिश की गई लेकिन उनका फ़ोन बंद आ रहा है। रेलवे पुलिस मुताबिक उनके मोबाइल की आखिरी लोकेशन रविवार शाम को मेरठ में मिली है। मगर अब तक उनका कोई पता नहीं चल पाया है।

ये भी पढ़ें :-  BJP नेता सत्यदेव सिंह ने कहा- ताजमहल सिर्फ एक कब्र है, नहीं हो सकती भारत की पहचान

उनके लापता होने की बात तब लोगों के सामने आई जब ये गाड़ी रविवार को कल्याण (मुंबई) रेलवे स्टेशन पर पहुंची और उनकी अगवानी के लिए आए लोगों को महंत नहीं मिले। लेकिन उनका सामान उनको जरूर मिला, इनके इस तरह से अचानक गायब होने के बाद संत समाज में जबरदस्त गुस्सा पाया जा रहा है, और इन्होंने सरकार से आग्रह किया है कि जल्द से जल्द इस मामले में जांच तेज कर उनकी तलाश की जाए, और दूसरी तरफ अखाड़ा परिषद ने अपने सभी पदाधिकारियों और ‘फर्जी बाबाओं’ के खिलाफ मुहिम छेड़ने वाले संतों की सुरक्षा बढ़ाए जाने की मांग भी की है।

ये भी पढ़ें :-  आरएसएस न होता तो हम 'वंदे मातरम' के बारे में नहीं जान पाते: योगी आदित्यनाथ

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि देश के ‘फर्जी बाबाओं’ की लिस्ट तैयार करने में महंत मोहन दास की अहम भूमिका थी। अखाड़ा परिषद के अनुसार उनको ‘फर्जी संतों’ की सूची जारी करने के बाद से काफी धमकियां भी मिल रही थी। जिसके बाद ये घटना सामने आ गई है। संतों का कहना है ‘कि अगर 24 घंटे के अंदर मोहनदास की कोई खबर नहीं लगती है तो वे पुलिस प्रशासन के खिलाफ उग्र आंदोलन करेंगे।’

लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>