मिलिए इस महिला सिपाही से, फेसबुक पर सात लाख फालोवर जुटाकर जानिए कैसे बनीं सेलिब्रेटी

Nov 05, 2016
मिलिए इस महिला सिपाही से, फेसबुक पर सात लाख फालोवर जुटाकर जानिए कैसे बनीं सेलिब्रेटी
स्मिता टांडी न कोई अफसर हैं न कोई बड़ी नेता। सिर्फ एक महिला सिपाही हैं। मगर जब आप फेसबुक पेज पर नजर डालेंगे तो आपकी आंखें फटी की फटी रह जाएंगी। पूरे सात लाख 20 हजार फालोवर इनके फेसबुक पेज पर मिलेंगे। यानी की एक सेलिब्रेटी के पास जितने फैन्स होते हैं , उतने ही इस एक सामान्य महिला सिपाही के पास हैं। सवाल उठता है कि आखिर इस महिला सिपाही में ऐसी क्या खूबी है कि सात लाख लोग फालोवर हैं। दरअसल स्मिता टांडी ने अपने फेसबुक पेज के जरिए गरीबों की मदद करती रहती हैं। लोगों से सहायता की अपील करती हैं। यह अदा लोगों को रास आती है और लोग उनके फेसबुक पेज से जुड़ते चले जाते हैं। स्मिता का कहना है कि उनका एकाउंट पेड नहीं है। यानी जितने लाइक्स मिले हैं सब वर्जिनल है।
पिता की मौत के बाद मदद के लिए बनाया फेसबुक पेज
स्मिता फेसबुक पेज को लेकर एक वाकया बताती हैं. कहती हैं कि   साल 2015 मार्च में फेसबुक पेज बनाया था, उसके पहले उनके साथ एक दुखद घटना घटी थी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक साल 2013 में जब स्मिता पुलिस की ट्रेनिंग ले रही थीं तब पैसों के अभाव में उनके पिता का इलाज नहीं हो पाया। इलाज न मिल पाने की वजह से स्मिता के पिता की मौत हो गई थी। पिता की मौत के बाद स्मिता ने जरूरतमंदों की मदद करने की ठानी।

ग्रुप बनाकर करतीं हैं गरीबों की मदद
स्मिता ने गरीब लोगों की मदद के लिए एक ग्रुप बनाया। इस ग्रुप के जरिए पैसे जमा करना शुरू कर दिया। सरकारी योजनाओं की जानकारी देने के साथ-साथ स्मिता और उनके दोस्तों ने गरीबों की मदद करना शुरू किया। शुरुआत में लोगों ने पोस्ट पर ध्यान नहीं दिया लेकिन धीरे-धीरे रेस्पॉन्स मिलना शुरू हो गया।
फेसबुक पर वैसे तो लोग मदद की अपील करते रहते हैं। लेकिन स्मिता भिलाई, रायपुर और इनके आस-पास के इलाकों में जिसे भी इलाज या मदद की जरूरत होती है, उनके पास जाती हैं। स्मिता जरूरतमंद के बारे में सारी जानकारी इकट्ठा करती हैं फिर जांच करती हैं कि सही है या गलत। जब उन्हें सब सही लगता है फिर वो मदद की अपील की पोस्ट डालती हैं।
987
अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>