मिलिए शिवपाल के उन चार कट्टर समर्थकों से, जो अखिलेश के खिलाफ लगे रहते हैं साजिश में

Oct 28, 2016
मिलिए शिवपाल के उन चार कट्टर समर्थकों से, जो अखिलेश के खिलाफ लगे रहते हैं साजिश में
पत्नी सरला हों या बेटे आदित्य यादव या फिर बड़े भाई मुलायम सिंह यादव। शिवपाल की सियासी रणनीति परिवार का कोई सदस्य नहीं बल्कि इटावा की चंडाल चौकड़ी तय करती है। इस चौकड़ी के लोगों पर शिवपाल की मुहब्बत खूब बरसती है। यहां तक कि पीडब्ल्यू और सिंचाई मिनिस्टर रहते शिवपाल चौकड़ी पर पांच-पांच सौ करोड़ के ठेके कुर्बान कर चुके हैं। यह ताकतवर लॉबी पिछले 15 वर्षों से शिवपाल के रणनीतिकार की तौर पर काम कर रही है। यही चौकड़ी  अखिलेश को सीएम की कुर्सी से उतारकर शिवपाल को गद्दी पर बैठाने का सारा ताना-बाना बुनती चली आ रही। चौकड़ी में  सबसे प्रमुख राजपाल यादव हैं। जो साये की तरह शिवपाल के साथ हमेशा खड़े रहते हैं। हर मंच पर वो शिवपाल के पीछे दिख जाएंगे। लेकिन इस चौकड़ी  में सबसे ज्यादा दिमाग चलता है ब्रजेश चंद्र यादव का। जो कि शिवपाल की कृपा से पीडब्ल्यूडी और सिंचाई विभाग में सौ-सौ करोड़ के ठेके हासिल करते रहे। मुलायम कुनबे के गृहक्षेत्र के सपाई बताते हैं कि शिवपाल अपनी चौकड़ी से राय-मशविरा किए एक कदम भी नहीं आगे चलते। जहां भी शिवपाल को समर्थन जुटाने की जरूरत होती है तो यही चौकड़ी भीड़ मैनेज करती है।
जीते जी शिवपाल के नाम बना दिया इंटर कॉलेज
चंडाल चौकड़ी के चौथे सदस्य महावीर सिंह यादव की शिवपाल से करीबियत का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि शिवपाल का नाम अमर करने  की ख्वाहिश के साथ उनके जीते जी उनके नाम से घर यानी जसवंतनगर में डिग्री और इंटर कॉलेज बनाकर खड़ा कर दिया है।
चार महीने से शिवपाल को सीएम बनाने के लिए कैंपेनिंग
समाजवादी पार्टी के सूत्र बता रहे हैं कि पिछले चार महीने से इटावा की यही चौकड़ी शिवपाल समर्थकों की फौज खड़ी करने में जुटी थी। जब-जब मुलायम कुनबे में कलह मचती तो चारों रसूखदार लोग करीब पांच हजार समर्थकों की टीम को तुरंत अलर्ट कर देते की जैसे कहा जाए तुरंत लखनऊ पहुंचकर शिवपाल के राजतिलक में भाग लेना है। उन्हें हर बार लगता कि शायद मुलायम सिंह यादव पार्टी में टूट की आशंका से डरकर इस बार कलह के चलते शिवपाल यादव को गद्दी सौंप दें।  जब रविवार को अखिलेश ने शिवपाल को मंत्री पद से हटाया तो कलह गहरा गई। इस बीच शिवपाल समर्थकों को पता चला कि मुलायम शिवपाल को मुख्यमंत्री बनाने की तैयारी कर चुके हैं तो इस चौकड़ी ने लखनऊ में चार हजार टीशर्ट का ऑर्डर भी दे दिया। बाद में जब पता चला कि मुलायम ने डबलक्रास कर दिया है तो मुंह लटकाकर सब लखनऊ से जसवंतनगर लौटने को मजबूर हो गए।
शिकायतों से परेशान अखिलेश ने भेजा तमिलनाडु मूल का एसपी
समाजवादी पार्टी इटावा के सूत्र बता रहे अपनी इस चौकड़ी की धाक जमाने के लिए मंत्री रहते शिवपाल यादव हमेशा चहेते एसपी व डीएम की तैनाती करते रहे। जिससे मनमानी खूब होती रही। ऐसी तमाम शिकायतें मिलने पर अखिलेश यादव ने हाल में तमिलनाडु मूल के आईपीएस एन कोलांक्षी को एसपी बनाकर भेज दिया। इसलिए तमिलनाडु मूल के आईपीएस को भेजा ताकि वह शिवपाल समर्थकों की भाषा  आसानी से समझ न सके। बल्कि ऊपर से जो कहा जाए वही कहे। तमिलनाडु मूल के एसपी को भेजने से अब शिवपाल समर्थक अंग्रेजी में ठीक से बात नहीं रख पाते हैं।
अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>