मिलिए दबंग लेडी आईएस अनुपमा से, व्यापारियों पर 750 मुकदमें ठोंककर बंद करा दी मिलावटखोरी

Oct 07, 2016
मिलिए दबंग लेडी आईएस अनुपमा से, व्यापारियों पर 750 मुकदमें ठोंककर बंद करा दी मिलावटखोरी
केरल की एक युवा आईएएस टीवी अनुपमा का नाम सुनकर केरल के व्यापारी थर-थरकर कांपते हैं। फूड सेफ्टी कमिश्नर पद पर कार्यरत अनुपमा की हनक के चलते अधिकांश  व्यापारियों ने खाद्य पदार्थों में मिलावट करना छोड़ दिया है। वजह कि इस आईएएस ने महज 15 महीने के भीतर 750 व्यापारियों पर मुकदमे ठोंक दिया, जिनके यहां से लिए गए नमूने जांच में फेल साबित हुए थे। अनुपमा ने अपनी निगरानी में  पिछले दिनों छह हजार से ज्यादा सैंपल्स भरवाए थे।  2010 बैच की ऑल इंडिया में 4th रैंक की इस आईएएस ने बता दिया है कि अगर अफसर चाहें तो कोई भी समस्या खत्म कर सकते हैं।
इसलिए अनुपमा ने लिया मिलावटखोरी रोकने का फैसला
आईएएस अनुपमा ने फल और सब्जियों की तमाम मंडियों में छापेमारी कराई। नमूनों की जांच में तीन सौ प्रतिशत कीटनाशक मिले। सब्जियों को जल्दी पकाने के लिए इंजेक्शन की डोज व कीटनाशक से जनता की सेहत के साथ खिलवाड़ देख अनुपमा दंग रह गईं। जिसके बाद सभी तरह के खाद्य पदार्थों में मिलावटखोरी करने वालों की कमर तोड़ने का फैसला किया।
छापेमारी की डर से कांपते हैं व्यापारी
आईएएस अनुपमा की सख्त कार्रवाई का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उन्होंने महज 15 महीने में 750 मिलावटखोरों पर मुकदमे दर्ज करा दिया। जिससे केरल में फल-फूल, सब्जियों और खाद्य पदार्थों में मिलावटखोरी करने वाले व्यापारियों में हड़कंप मचा है। इसके चलते केरल के व्यापारी छापे की आशंका से हमेशा  कांपते रहते हैं।
लोगों को घर पर सब्जी उगाने के लिए प्रेरित कर रहीं अनुपमा
खास बात है कि मिलावटखोंरों पर एक्शन लेने के साथ आईएएस अनुपमा ने खुद घर पर सब्जियां उगाने की मुहिम शुरू की। जनता को प्रेरित करना शुरू कर दिया। मुहिम की सफलता देख केरल राज्य सरकार ने भी प्रमोट करना शुरू कर दिया। नतीजा जो केरल पहले जहां 70 फीसद सब्जियां तमिलनाडु और कर्नाटक से खरीदता था, अब केरल के लोग खुद 70 प्रतिशत सब्जियां उगाने लगे हैं। अनुपमा ने फूड सेफ्टी वाइस मिशन से जुड़ने के लिए फेसबुक पर लिंक भी दिया है।
अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>