शहीद मुकुल के मित्र का पत्र, कभी इस देश में जन्म मत लेना

Jun 06, 2016

लखनऊ। में जिस तरह से राजनैतिक सांठगांठ के चलते एसपी मुकुल द्विवेदी की हत्या की गयी उसने पुलिस महकमे को झकझोर कर रख दिया है। मुकुल कुमार के दोस्त और सहकर्मी शशि शेखर सिंह ने पर अपनी पीड़ा को बेहद मार्मिक ढंग से व्यक्त किया है।

 

शशि शेखर ने समाज के तंत्र पर गुस्सा जाहिर करते हुए लिखा है कि पुलिस की नियति अपने लोगों द्वारा मारे जाने की है। उन्होंने लिखा है कि विदा मुकुल अब कभी इस देश में पैदा मत होना।

शशि शेखर का पत्र

आदरणीय मुकुल द्विवेदी मेरे बहुत अच्छे मित्र और सहकर्मी थे।

मुकुल और मैं अलीगढ में 2007 में हुए दंगे में साथ साथ ड्यूटी कर रहे थे। तब भी कई गोलिया चली थी लेकिन हम दोनों सुरक्षित रहे।ऑफिसर कॉलोनी में मुकुल और मेरा आवास एक साझा चारदीवारी से जुड़ा हुआ था। तब वो सीओ सिटी फर्स्ट थे और मैं सीओ अतरौली। रात को अक्सर हमदोनो एक साथ ही 2. 00 बजे भोर ड्यूटी से वापस आते, पहले ठहाके लगाते फिर सोने जाते। मुकुल एक निहायत ही शरीफ, मृदुभाषी, संवेदनशील और भावुक इंसान थे।

ये भी पढ़ें :-  प्रधानमंत्री ने राजनीति का स्तर गिरा दिया है : मायावती

मुकुल ने अपने जीवन का सबसे बहुमूल्य समय अपने मासूम बच्चों और पत्नी को नहीं बल्कि पुलिस और समाज को दिया है। मैं गवाह हूँ उनके हाड़तोड़ मेहनत और प्रतिबद्धता का। मुकुल शेरो- शायरी के भी शौक़ीन थे। आम आदमी तो प्यार में शायर बनता है लेकिन हिन्दू मुस्लिम दृष्टिकोण से साम्प्रदयिक शहरों में नियुक्ति से पुलिस वाले शायर बन जाते है। मुकुल दोनों प्रकार से बने हुए शायर थे।

मुकुल आज हमारे बीच नहीं है। पुलिस की नियति अपने ही लोगो द्वारा मारे जाने की है। पुलिस की मौत पर जश्न मनाने वालों खुश रहो। हम यूँही मुकुल बन कर मरते रहेंगे। मुकुल किसी आतंकवादी या डकैतों से लड़ता हुआ मारा जाता तो हमें गर्व और दुःख होता लेकिन आज शर्म और दुःख है।

ये भी पढ़ें :-  अखिलेश की आवाज में अब पहले जैसा दम नहीं रहा, वह बाजी हार चुके हैं- नरेंद्र मोदी

विदा मुकुल, अब कभी मत मिलना। और आखिरी बात इस देश में फिर कभी पैदा मत होना।

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected