बिना दहेज विवाह कर समाज का गौरव सम्मान बढ़ाया राजदीप गंगेले ने

Mar 31, 2016
छतरपुर – मध्य प्रदेष सरकार व्दारा महिलाओं की सुरक्षा एवं सम्मान के लिए सैकड़ों जन कल्याणकारी योजनाओं को प्रदेष में संचालित किया जा रहा है । इन योजनाओं को सही ढंग से संचालित कराने की जुम्मेदारी संबंधित विभाग एवं जनप्रतिनिधिओं की है ।
भारतीय संस्कृति एवं संस्कारों की रक्षा करने के उद्देष्य से मध्य प्रदेष में एक सामाजिक संगठन गणेष षंकर विद्यार्थी प्रेस क्लब मध्य प्रदेष है जो भारत सरकार एवं प्रदेष सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं का प्रचार-प्रसार निःषुल्क करता है ।  इस संगठन के संचालक /संस्थापक अध्यक्ष संतोष गंगेले लगातार अनेक बर्षो से षिक्षा , स्वास्थ्य, स्वच्छता, समरसता एवं समाज बिषय को लेकर प्रदेष में कार्य कर रहे है । पिछले बर्ष से स्वच्छ भारत अभियान के साथ -साथ बेटी बचाओं, बेटी पढ़ाओं, दहेज को अभिषाप है, मतदाता जन जागृति अभियान आदि को लेकन प्रदेष में दौरा किए । हाल में उन्होने अपने बेटा राजदीप गंगेले जो कि  विषेष षिक्षा ग्रहण पुणे से कर घर लौटा तो उसका विवाह संस्कार ग्राम आलीपुरा जिला छतरपुर के एक आर्थिक हालत खराब किसान परिवार की षिक्षित बेटी कु0 आकाॅक्षा अड़जरिया पुत्री पं0 श्री रमेष चन्द्र ब्रा0 नि0 आलीपुरा के घर जाकर स्वयं रिष्ता माॅग कर अपने बेटा का विवाह बिना दहेज कर समाज में उदाहरण पैष किया है । बिना दहेज विवाह की खबर मिलने पर छतरपुर जिला प्रषासन ने गणेष षंकर विद्यार्थी प्रेस क्लब मध्य के प्रान्तीय अध्यक्ष संतोष गंगेले के पुत्र चि0 राजदीप गंगेले को बधाईयाॅ दी है। मध्य प्रदेष ब्राम्हण समाज भोपाल के संयोजक श्री राकेष चैवे, जबलपुर संभाग के श्री उमाषंकर अवस्थी, सागर संभागीय संयोजक श्री भरत तिवारी, मध्य प्रदेष सर्व ब्राम्हण समाज के अध्यक्ष श्री अनिल तिवारी धार सहित अनेक संगठनों ने बधाईयाॅ दी है । समाज में ऐसे दहेज विरोधी  उदाहरण प्रस्तुत करने वालों को राज्य सरकार को सम्मान करना चाहिए ।
नव विवाहित बधु  ं आकाॅक्षा गंगेले  पत्नि श्री राजदीप गंगेले निवासी वार्ड नं0 10 कुलदीप मैरिज हाउस नौगाॅव जिला छतरपुर म0प्र0  ने कहा कि मै ईष्वर से प्रार्थना करती हॅू कि समाज में ऐसे गरीवों  के मषीहा समाजसुधार हजारेां लोगो में हमारे ससुर श्री संतोष गंगेले भी एक है, जिन्होने हमारे परिवार पर कृपा कर मुझे अपनी बहू के रूप में स्वयं हमारे घर आकर रिष्ता तय किया है । यदि समाज में ऐसे लोग बेटियों का सम्मान करने लगे तो भारतीय संस्कृति में जो कहा हे कि जहां नारी का सम्मान होता है वहाॅ देवता निवास करते है वह मैं आज स्वयं इस स्थान पर पहुॅच गई हॅू ।
महाराजपुर विधान सभा क्षेत्र के  ग्राम आलीपुरा जिला छतरपुर म0्रप0 की रहने बाली हॅू मेरे पिता पं0 श्री रमेष चन्द्र अड़जरिया मजदूर , किसान परिवार से है ।  मैने सरकार की योजनाओं के माध्यम से अध्ययन किया तथा अपना भविष्य बनाने के लिए षिक्षा को जीवन प्रमुख स्थान दिया ।  बर्तमान समय में सूखा के कारण मेरे पिता मेरे विवाह से चिंतित थें, लेकिन इस क्षेत्र के समाजसेवी बरिष्ठ पत्रकार , लेखक श्री संतोष गंगेले के षिक्षित पुत्र चि0 राजदीप गंगेले ने मेरी षिक्षा व योग्यता के आधार पर बिना दहेज, विवाह किया । इस बैबाहिक कार्यक्रम का तिलकोत्सव दिनांक 17 फरवरी 2016 को नौगाॅव स्थित कन्हैया (उत्सव) बाटिका में  सम्पन्न हुआ जिसमें नौगाॅव अनुविभागीय अधिकारी श्री एस0एल0 प्रजापति जी, क्षेत्रीय विधायक श्री मानवेन्द्र सिंह जी, जनपद अध्यक्ष श्रीमती सुधा यादव, उपाध्यक्ष श्री नीरज दीक्षित, नौगाॅव नगर पालिका अध्यक्ष श्रीमती अभिलाषा /धीरेन्द्र षिवहरे जी सहित जिला के प्रषासनिक अधिकारी, कर्मचारीगण, व्यापारी , राजनेता, जनप्रतिनिधि, संपादक, पत्रकार, समाजसेवी, सम्मानित नागरिकगण उपस्थित रहे । विवाह दिनंाक 27 फरवरी 2016 को गौहर मैरिज गार्डन आलीपुरा जिला छतरपुर म0प्र0 से सम्पन्न हो गया है ।  मुझे आषा है कि आपका सम्मान आषीर्वाद  संदेष मुझें जरूर  मिलेगा ।
मुझे मध्य प्रदेष सरकार की नीतिओं पर भरोसा है, मैं प्रदेष सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं के प्रति सचेत हॅू तथा मध्य प्रदेष के मुखिया श्री षिवराज सिंह जी चैहान के कार्यो की सराहना करती हॅू साथ ही आषा करती हॅू कि मेरे कर्मयोगी, समाजसेवी, भारतीय संस्कृति एवं संस्कारों की रक्षा करने बाले स्वामी, पतिदेव को राज्य सरकार से बिना दहेज मेरा विवाह करने पर सम्मानित करने विचार करेगी  ।   (संतोष गंगले)
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>