मोदी को सत्ता से हटाने का दिवास्वप्न देख रहीं ममता: प्रकाश जावड़ेकर

Jul 23, 2017
मोदी को सत्ता से हटाने का दिवास्वप्न देख रहीं ममता: प्रकाश जावड़ेकर

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘सत्ता से हटाने’ का आह्वान करने तथा उन पर सांप्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ने का आरोप लगाने के लिए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की शनिवार को तीखी आलोचना की। जावड़ेकर ने कहा कि पश्चिम बंगाल में लगातार जनता भाजपा से जुड़ रही है, जिससे ‘हताश’ होकर ममता ऐसी बातें कर रही हैं।

जावड़ेकर ने यहां एक कार्यक्रम से इतर कहा, “मोदी जी को सत्ता से हटाने का उनका अभियान..हर व्यक्ति दिवास्वप्न देख सकता है, लेकिन वह साकार नहीं होने जा रहा। जो एकता अस्तित्व में ही नहीं है, वह हमें चुनौती नहीं दे सकती। मोदी गरीबों, समाज के हर तबके से जुड़े हैं। दिन ब दिन हम मजबूत हो रहे हैं।”

ये भी पढ़ें :-  दलित छात्र से कुत्तों की मालिश और शौचालय साफ करवाते थे स्कूल अधिकारी

शुक्रवार को शहीद दिवस पर तृणमूल कांग्रेस की एक रैली में ममता बनर्जी ने केंद्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर ‘व्यापक भ्रष्टाचार’ में लिप्त होने तथा हर मोर्चे पर विफल होने का आरोप लगाया था।

उन्होंने अगले आम चुनाव में भाजपा को सत्ता से बाहर करने का संकल्प लिया था।

जावड़ेकर ने कहा कि ममता का भाषण उनकी ‘निराशा’ का परिचायक है।

उन्होंने कहा, “उनकी हताशा और निराशा स्पष्ट है। उनका एकमात्र एजेंडा है-भाजपा व मोदी के खिलाफ बोलना। जनता हमारे साथ है। यहां तक कि बंगाल में लोग आ रहे हैं और भाजपा से बातचीत कर रहे हैं। उनकी चिंता का मूल कारण यह है, जो कल सबके सामने आ गया।”

ये भी पढ़ें :-  बीजेपी नेता ने किया 27 वर्षीय महिला का बलात्कार, कई धाराओं में केस दर्ज

जावड़ेकर ने कहा, “मैं इस बात से उत्साहित हूं कि ममता तथा कम्युनिस्टों के शासन में बहुत ज्यादा अंतर नहीं है, क्योंकि दोनों ही वास्तव में राज्य को विकसित करना नहीं चाहते। वे केवल गरीबी को बढ़ावा दे रहे हैं न कि खुशहाली को।”

उन्होंने आरोप लगाया कि ममता बनर्जी सांप्रदायिक तनाव का माहौल कायम कर रही हैं।

मंत्री ने कहा, “यह उनकी राजनीति का चिंताजनक पहलू है, खासकर पिछले कुछ महीनों के दौरान। वह समाज को बांट रही हैं, समुदायों को बांट रही हैं। यह अस्वीकार्य है। सांप्रदायिक सौहार्द्र लोकतंत्र का मूल तत्व है, जिसे बिगाड़ा जा रहा है।”

जावड़ेकर ने कहा, “जब हम अंतर-राज्यीय बैठकें करते हैं, अक्सर बंगाल उन बैठकों से अनुपस्थित रहता है। इस तरह की बैठकों में हर किसी को हिस्सा लेना चाहिए।”

ये भी पढ़ें :-  बलात्कारी बाबा राम रहीम को कोर्ट से भगाने की साजिश रचने वाले 3 पुलिसकर्मी गिरफ्तार

बाद में पत्रकारों से बात करते हुए जावड़ेकर ने स्पष्ट किया कि उन्होंने हाल ही में शिक्षा पर आयोजित एक ब्रेनस्टॉर्मिग प्रोग्राम के संदर्भ में वह बात कही।

जावड़ेकर ने कहा, “मैं खुद पूरी परिचर्चा के दौरान मौजूद रहा। लेकिन दुर्भाग्य से एकमात्र राज्य पश्चिम बंगाल वहां नहीं था। इसका फैसला तो आपको ही करना होगा।”

पश्चिम बंगाल के शिक्षा मंत्री पार्था चटर्जी ने हालांकि जावड़ेकर द्वारा लगाए गए आरोप को खारिज किया।

चटर्जी ने कहा, “यह पूरी तरह गलत है। हमारे अधिकारी इस तरह की हर बैठक में जाते हैं और अपने विचार रखते हैं। हो सकता है, उन्हें पता न हो।”

लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>