महाकौशल एक्सप्रेस पटरी से उतरी, 52 घायल

Mar 30, 2017
महाकौशल एक्सप्रेस पटरी से उतरी, 52 घायल

उत्तर प्रदेश में गुरुवार की सुबह महाकौशल एक्सप्रेस के आठ डिब्बे पटरी से उतर गए और हादसे में कम से कम 52 यात्री घायल हो गए। रेलवे के एक अधिकारी के मुताबिक, यह घटना तड़के लगभग दो बजे घटी। मध्य प्रदेश के जबलपुर और नई दिल्ली के हजरत निजामुद्दीन के बीच चलने वाली महाकौशल एक्सप्रेस लाडपुर और सुपा के बीच कुलपहाड़ स्टेशन के पास पटरी से उतर गई।

उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह बचाव और राहत कार्य की देखरेख के लिए दुर्घटना स्थल पर पहुंचे। उन्होंने कहा कि हादसे में घायल 52 यात्रियों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

सिंह ने कहा कि उनमें से 11 अभी भी अस्पताल में हैं। वहीं दो गंभीर रूप से घायल थे, जिन्हें झांसी भेज दिया गया।

सिंह ने रेल मंत्री सुरेश प्रभु और अन्य रेलवे अधिकारियों के हवाले से बताया कि वेल्डिंग के कारण ट्रैक का एक हिस्सा टूट गया था, जिस वजह से दुर्घटना हुई।

रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने कहा, “ट्रैक पर हाल ही में वेल्डिंग की गई थी, जिसमें कमी के चलते यह घटना हुई। जांच के आदेश दे दिए गए हैं।”

रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि जांच रिपोर्ट आने के बाद कार्रवाई की जाएगी।

हालांकि, उत्तर मध्य रेलवे के प्रवक्ता ने इलाहाबाद से आईएएनएस को बताया कि केवल 12 लोग घायल हुए हैं।

रेलवे अधिकारी से मिली जानकारी के मुताबिक, पटरी से उतरे कोचों में चार वातनुकूलित डिब्बे, एक स्लीपर, दो जनरल और एक एसएलआर कोच है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि गंभीर रूप से घायलों के लिए 50-50 हजार रुपये तथा मामूली रूप से घायलों के लिए 25-25 हजार रुपये की आर्थिक सहायता दी जाएगी।

सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा, “ऐसी कोई भी घटना दुर्भाग्यपूर्ण है। मौके पर आतंकवाद रोधी दस्ता (एटीएस) और रेलवे पुलिस मौजूद है।”

उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) और उत्तर प्रदेश पुलिस संयुक्त रूप से महोबा जिले में हुए इस घटना की जांच कर रही है।

उत्तर मध्य रेलवे ने कहा कि जांच का आदेश दिया गया है।

रेलवे अधिकारी ने बताया कि घटना के बाद बाकी डिब्बों और यात्रियों के साथ रेलगाड़ी सुबह 6.45 बजे घटनास्थल से रवाना कर दी गई।

इस दौरान इलाहाबाद और झांसी के बीच कुछ रेलगाड़ियों के मार्ग भी परिवर्तित किए गए।

गौरतलब है कि 2017 की शुरुआत में आंध्र प्रदेश में हीराकुंड एक्सप्रेस के नौ डिब्बे पटरी से उतर गए थे जिसमें 41 यात्रियों की मौत हो गई थी और 60 से अधिक घायल हो गए थे।

नवंबर, 2016 में ऐसा ही एक हादसा कानपुर के पास घटी थी, जिसमें पटना-इंदौर एक्सप्रेस के 14 डिब्बे पटरी से उतर गए थे, जिसमें कम से कम 150 लोग मारे गए थे और 300 से अधिक यात्री घायल हुए थे।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

Jan 19, 2018

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>