लखनऊ में विधायकों की बोली लगनी शुरू, दो-दो करोड़ में बिक रहे माननीय

Jun 10, 2016

बिकते हैं माननीय खरीदने वाला चाहिए। अमूमन अब तक आपने पंचायत प्रमुखों के इलेक्शन में बीडीसी व जिला पंचायत सदस्यों को बिकते देखा होगा मगर विधायक भी अपनी कीमत लगाते हैं। बस अंतर इतना है कि उनकी बोली दो करोड़ तक लगती है। उत्तर प्रदेश में 11 राज्यसभा सदस्यों का जुलाई में चुनाव होना है। राजधानी लखनऊ में मंडी सज चुकी है। प्रीती महापात्रा इस बाजार का संचालन करने में सबसे आगे हैं। इसकी भी वजह है कि वे एक तो बाहरी हैं, दूसरे निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर चुनाव मैदान में है। लिहाजा उन्हें जोड़-तोड़ से ही विधायकों के वोट का जुगाड़ करना है। सूत्र बता रहे हैं कि जीत के लिए 34 वोट जिताने के लिए प्रीति महापात्रा ने दो-दो करोड़ के ऑफर थर्ड पार्टी के जरिेए माननीयों को दिए हैं

तिहाड़ जेल की हवा खा चुके हैं हरिहर महापात्रा

हरिहर महापात्रा बड़े व्यवसायी हैं। वे एक मामले में तिहाड़ जेल की हवा खा चुके हैं। दो दर्जन कंपनियों के मालिक बताए जाते हैं। गुजरात, दिल्ली से लेकर मुंबई तक उनका बिल्डर से लेकर जेवरात तक का कारोबार है। यूपी से भाजपा के समर्थन से राज्यसभा जाने का ख्वाब देख रहीं प्रीति महापात्रा गुजरात में कृष्णलीला फाउंडेशन चलाने के साथ हीरे का कारोबार संभालती हैं। सूत्र बता रहे हैं कि धनबल में मजबूत होने की वजह से जीत के लिए विधायकों को खरीदना उनके लिए बाएं हाथ का खेल है। बशर्त किसी पार्टी के विधायक बिकने के लिए तैयार हों।

थर्ड पार्टी के पास रखवाया गया पैसा

सूत्र बताते हैं कि माननीयों की खरीद-फरोख्त के खेल में पैसा डूबने का खतरा रहता है। पूर्व में कई चुनावों में हो चुका है, कि विधायकों ने पैसे भी ले लिए और वोट भी नहीं दिेए। चूंकि पैसे का ट्रांजेक्शन नंबर दो का होता है, इस नाते संबंधित प्रत्याशी कानूनी कार्रवाई भी नहीं कर पाते। यही वजह है कि इस समय लखनऊ में राज्यसभा सदस्य पद के चुनाव में विधायकों की खरीददारी में प्रत्याशी काफी सेफ गेम खेल रहे। इसके लिए विधायकों से डीलिंग के बाद प्रत्याशी थर्ड पार्टी के पास पैसा रखवा रहे। कह रहे कि उनके वोट से जीत होते ही पैसा उनका हो जाएगा।

सपा-बसपा के असंतुष्ट विधायक बिकने को तैयार

राज्यसभा सदस्य बनने के लिेए प्रीति को 34 विधायकों का वोट चाहिए। भाजपा के पास 41 विधायक हैं। 34 विधायक भाजपा प्रत्याशी शुक्ला को वोट देंगे। बाकी बचे सात विधायक पार्टी समर्थित प्रीति महापात्रा को वोट देंगे। करीब पांच निर्दलीय विधायक महापात्रा के पहले से प्रस्तावक रहे हैं। इस प्रकार करीब 22 से 24 विधायकों का उन्हें अपने दम पर जुगाड़ करना है। सूत्र बता रहे हैं कि सपा और बसपा से जिन विधायकों के टिकट आगामी विधानसभा चुनाव में काटे जा रहे या फिर जिन्हे पिछले चार साल से हाशिए पर डाल दिया गया था, वे प्रीति महापात्रा के लिेए क्रास वोटिंग करने की तैयारी में हैं।

भरोसेमंद लोग कर रहे बिचौलियागिरी

सूत्र बता रहे कि सपा-बसपा के कुछ असंतुष्ट विधायक तो सीधे प्रीति महापात्रा एंड कंपनी के टच में हैं तो वहीं कुछ अन्य विधायक जो लाइट में आने से बचना चाहते हैं वो अपने भरोसेमंद लोगों के जरिए प्रीति से सौदबाजी कर रहे हैं।

हार्सट्रेडिंग पर सरकार के कान खड़े, विधायकों के फोन सर्विलांस पर

राज्यसभा चुनाव के लिेए लखनऊ के पांच सितारा होटल से चल रही विधायकों की खरीद-फरोख्त से सपा सरकार के कान खड़े हो गए हैं। पार्टी को सूचना मिली है कि उसके कुछ असंतुष्ट विधायक बिक कर पार्टी व्हिप का उल्लंघन कर विरोधी प्रत्याशी को वोट दे सकते हैं। ऐसे में विधायकों के फोन सर्विलांस पर लगा दिए गए हैं। वहीं डीजीपी ने एसएसपी को खरीद-फरोख्त की सूचना पर कार्रवाई का निर्देश दिेए हैं।

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>