प्यार नहीं, रिश्तों में दिखने लगा है नफा-नुकसान!

Apr 12, 2017
प्यार नहीं, रिश्तों में दिखने लगा है नफा-नुकसान!

रिश्तों का गुणा हिसाब
अगर किसी शादी ब्याह ने अपने किसी के लिए शगुन डाला है तो आप यह उम्मीद रखते हैं कि सामने वाला हमारे समारोह में उससे दुगना डाले अगर वह ऐसा नहीं करता है तो उस रिश्ते में अनबन हो जाती है।

– खत्म हो जाते हैं रिश्ते
आजकल के जमाने में किसी के पास इतना भी समय नहीं कि वह किसी भी रिश्ते को अच्छे से निभा पाए। लोग पति पत्नी के रिश्ते को ही संभाल नहीं पाते हैं तो और रिश्ते की तो हम बात ही क्या करें। दूर के रिश्तेदारों का तो कुछ लोगों को नाम ही नहीं पता रहता है बस गिनकर अपने करीबी लोगों के नाम उन्हें याद रहते हैं उसमें भी वह समय पर कभी भी पहुंच नहीं पाते हैं इसलिए आजकल के रिश्ते को कोई भी अच्छे से नहीं निभा पाता है।

– पैसा, प्रोफेशन और कामयाबी जिम्मेवार
आजकल उन रिश्तो को ज्यादा अहमियत दी जाती है जो प्रोफेशनल रिश्ते होते हैं क्योंकि लाजमी से बात है जिनके हाथ में पैसा ज्यादा आ जाता है उन लोगों से बात करना पसंद नहीं करते जिन्होंने कोई मुकाम हासिल नहीं किया है। जिसके चलते कुछ रिश्ते ऐसे ही खत्म हो जाते हैं हमेशा लोग उन रिश्तो को ज्यादा अहमियत देते हैं जिनसे उन्हें बिजनेस में ज्यादा से ज्यादा फायदा होगा और लाइफ में भी ज्यादा से ज्यादा मुनाफा हो।

कैल्कुलेटिव होने के कारण
आजकल समय की कमी होने के कारण भी लोग हमेशा उन्ही लोगों से बात करते हैं जिनसे उन्हें फायदा होता है। अगर बात की जाए आजकल की युवा पीढ़ी की तो वो इतने प्रैक्टिकल है कि वह हमेशा उन लोगों को पहले अहमियत देते हैं जिनसे उन्हें फायदा होता है।

पहले वीकेंड पर हर कोई अपने रिश्तेदारों के यहां जाने के बारे में सोचता था परंतु आजकल किसी के पास इतना भी समय नहीं है कि वह वीकेंड में भी रिश्तेदारों के पास जाएं बल्कि उसकी जगह वह सो कॉल्ड पार्टी गेट टूगेदर पिकनिक इन जगह पर जाना ज्यादा पसंद करता है जिसकी वजह से रिश्तो में दूरियां आ गई है।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>