ISIS की 8000 लोगों वाली ‘किल लिस्‍ट,’ जानिए कौन-कौन निशाने पर

Jun 10, 2016

लंदन। आतंकी संगठन के सपोर्टर्स ने गुरुवार को एक ‘किल लिस्ट’ जारी की है। इस लिस्‍ट में आठ हजार से ज्यादा नाम हैं और इसे दुनिया की सबसे लंबी किल लिस्ट कहा जा रहा है। दिलचस्‍प बात है कि इस लिस्ट में अमेरिका के सबसे ज्यादा नागरिकों के नाम हैं।

नाम और पते से लेकर ईमेल आईडी तक

न्‍यूजपेपर डेली मिरर की खबर के मुताबिक आईएसआईएस को सपोर्ट करने वाले हैकर ग्रुप युनाइटेड साइबर खलिफत ने 8,318 लोगों की एक लिस्ट जारी की है। इस लिस्‍ट लोगों के नाम, पते और यहां तक कि ईमेल एड्रेस भी लिखे हैं। और भी हैरान करने वाली बात यह है कि लिस्ट एक मेसेजिंग ऐप सर्विस पर रिलीज हुई है।

ये भी पढ़ें :-  पाकिस्तान में फिर आत्मघाती हमला, 4 की मौत, 15 घायल

मुसलमानों की हत्‍या का बदला लेना

लिस्ट के साथ सपोर्टर्स के नाम एक मैसेज भी है और इसमें कहा गया है कि लिस्ट में दिए गए लोगों को खोजें और उनकी हत्‍या कर दें। मैसेज के मुताबिक हत्‍या का मकसद मुसलमानों का बदला लेना है।

लिस्‍ट में कौन-कौनइसमें सबसे ज्यादा 7848 अमेरिकी हैं।इनके अलावा कनाडा के 312, ब्रिटेन के 39 नागरिकों की जानकारी है।ऑस्ट्रेलिया के 69 नागरिकों के नाम और यूरोप के कुछ देशों के नागरिक भी हैं।बेल्जियम, एस्टोनिया, फ्रांस, जर्मनी, ग्रीस, आयरलैंड, इटली के लोग भी लिस्ट।इसके अलावा ब्राजील, चीन, ग्वाटेमाला, इंडोनेशिया, इस्राएल, जमैका, न्यूजीलैंड और त्रिनिदाद और टबैगो के नागरिकों को भी लिस्‍ट में रखा गया है।लिस्ट में जो नाम हैं वे या तो आर्म्‍ड फोर्सेज से जुड़े हैं या फिर सरकारी पदों पर हैं।लोगों की नजरों में रहने वाले लोग जैसे शाही परिवार के कुछ लोगों के नाम भी है।लिस्ट अंग्रेजी और अरबी दोनों में लिखी गई है।लिस्ट का पता वोकेटिव नामक मीडिया ऑर्गनाइजेशन ने लगाया है।वोकेटिव मीडिया इंटरनेट पर छुपी हुई जानकारी की जांच करता है।लिस्ट को मेसेजिंग सर्विस टेलीग्राम के जरिए भेजा गया।टेलीग्राम के मैसेजेज को हैक करना बहुत मुश्किल माना जाता है।युनाइटेड साइबर खलिफत हैकिंग ग्रुप को अप्रैल 2015 में बनाया गया था।इस ग्रुप में कई कट्टरपंथी इस्लामिक है हैकर्स काम करते हैं।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected