लश्कर, आतंकबादी जैश के खिलाफ साथ में काम करेंगे ! भारत और अमेरिका

Mar 10, 2016

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इस महीने के आखिर में होने वाली अमेरिका यात्रा से पहले भारत और अमेरिका ने कई मुद्दों पर पहले से करीबी साझेदारी को गहन करने पर सहमति जताई.

इनमें लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद के खिलाफ लड़ाई शामिल है जिन्हें भारत में कई आतंकी हमलों के लिए जिम्मेदार ठहराया जाता है. विदेश सचिव एस जयशंकर की अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार सुसैन राइस से मुलाकात के दौरान यह फैसला किया गया.

व्हाइट हाउस में राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के प्रवक्ता नेड प्राइस ने मंगलवार को एक बयान में कहा, ”राइस और जयशंकर ने जलवायु परिवर्तन, व्यापार एवं रक्षा पर द्विपक्षीय सहयोग को मजबूत करने की प्रतिबद्धता दोहराई और आगामी परमाणु सुरक्षा शिखर सम्मेलन की तैयारियों का संज्ञान लिया.”

उन्होंने कहा, ”उन्होंने लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद और अन्य आतंकवादी खतरों के खिलाफ अमेरिका-भारत के सहयोग पर भी चर्चा की.”

प्राइस ने कहा, ”अमेरिका-भारत की साझेदारी को 21वीं सदी के निर्धारक संबंध बनाने की अपने देशों के नेताओं की प्रतिबद्धताओं के अनुरूप, उन्होंने इन मामलों पर पहले से करीबी सहयोग को और गहरा करने पर सहमति व्यक्त की.”

लश्कर-ए-तैयबा का हाथ भारत में कई आतंकी हमलों में रहा है जिनमें 2008 का मुंबई आतंकवादी हमला शामिल है. भारत ने पठानकोट के दो जनवरी के आतंकी हमले के लिए जैश-ए-मोहम्मद को जिम्मेदार ठहराया है.

जयशंकर ने मंगलवार को वाशिंगटन में विदेश मंत्रालय, वाणिज्य मंत्रालय के अधिकारियों और अमेरिकी कारोबारी प्रतिनिधियों से मुलाकात की. विदेश सचिव स्तर की बैठकें आज भी होने की उम्मीद है.

जयशंकर दो दिवसीय वाशिंगटन यात्रा पर आए है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस माह के अंत में परमाणु सुरक्षा शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए अमेरिका आएंगे.

 

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>