कुलदीप बिश्नोई ने कांग्रेस पार्टी में किया विलय

Apr 28, 2016

कुलदीप बिश्नोई के नेतृत्व वाली हरियाणा जनहित कांग्रेस का सोनिया गांधी और राहुल गांधी की मौजूदगी में कांग्रेस पार्टी में विलय कर दिया गया.

हजकां का गठन बिश्नोई के पिता और पूर्व मुख्यमंत्री भजनलाल ने वर्ष 2007 में कांग्रेस से अलग होने के बाद किया था. हालांकि पूर्व मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा की गैर मौजूदगी अपने आप में काफी कुछ कह रही थी.

कांग्रेस पार्टी की ओर से 2005 में जाट नेता हुड्डा को प्राथमिकता दिए जाने से नाराज होकर भजनलाल ने पार्टी बनाई थी. 2011 में तीन जून को भजनलाल का देहांत हो जाने के बाद बिश्नोई ने पार्टी की कमान संभाल ली थी.

उन्होंने 10 जनपथ पर इस विलय की घोषणा करते हुए कहा, मैं कभी कांग्रेस से अलग नहीं हुआ था. एक परिवार में मतभेद होते ही हैं. कांग्रेस हमारे खून में है. मतभेद अब दूर हो चुके हैं. 2014 के संसदीय चुनावों के लिए हजकां ने भाजपा के साथ गठबंधन किया था. पिछले विधानसभा चु नाव में पार्टी अलग से लडी थी और उसे महज दो ही सीटें मिली थीं. कुलदीप बिश्नोई अपने पिता की पारंपरिक सीट आदमपुर (हिसार) से जीते थे जबकि उनकी पत्नी रेणुका बिश्नोई हांसी से जीती थीं.

बिश्नोई ने कहा, ‘‘सोनिया गांधी और राहुल गांधी ही हमारे नेता हैं. हम कांग्रेस को मजबूत करने के लिए काम करेंगे.

उन्होंने कहा, ‘भजनलाल जी कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता थे, जो कुछ कारणों के चलते अलग हो गए. अब, वे चीजें खत्म हो चुकी हैं और किसी ने बीते समय में क्या कहा, यह बात अब अप्रासंगिक हो चुकी है. आज एकसाथ चलने का फैसला लिया गया है और कुलदीप पार्टी के एक मजबूत नेता के तौर पर उभरेंगे.

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>