कश्मीरह: लगातार 35वें दिन जनजीवन प्रभावित, अलगाववादियों की मार्च निकालने की योजना

Aug 12, 2016

पुराने श्रीनगर शहर में ईदगाह तक मार्च निकालने की अलगाववादियों की योजना को विफल करने के लिए कश्मीर के कई इलाकों में शुक्रवार को कर्फ्यू लगा दिया गया जबकि घाटी के शेष हिस्सों में कड़े प्रतिबंध लगा दिए गए हैं.

एक पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘पूरे श्रीनगर जिले, अनंतनाग, शोपियां, बारामूला शहरों और पुलवामा जिले के अवंतीपोरा और पम्पोर शहरों में कर्फ्यू लगा दिया गया है.’

अधिकारी ने बताया कि घाटी के शेष हिस्सों में लोगों की आवाजाही पर कड़े प्रतिबंध लगाए गए हैं.

बीते शुक्रवार को सामूहिक नमाज के बाद घाटी के कई स्थानों पर प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच झड़पें हुई थीं. इनमें तीन लोगों की मौत हो गयी थी और सैकड़ों अन्य घायल हो गये थे.

अलगाववादियों ने बीते 34 दिनों में सुरक्षा बलों की कार्रवाई में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि देने के लिए नागरिकों से पुराने शहर के ईदगाह में एकत्र होने का आह्वान किया है.

प्रशासन के प्रतिबंधों और अलगाववादी के बंद के आह्वान के कारण शुक्रवार को लगातार 35वें दिन घाटी में जनजीवन प्रभावित हुआ है. प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच झड़पों में दो पुलिसकर्मी सहित 55 लोगों की मौत हो गयी और हजारों लोग घायल हो गये.

अधिकारी ने बताया कि स्कूल, कॉलेज, व्यपारिक प्रतिष्ठान, पेट्रोल पंप और निजी कार्यालय बंद हैं जबकि सार्वजनिक परिवहन भी सड़कों पर नजर नहीं आ रहे. सरकारी कार्यालयों और बैंकों में भी उपस्थिति काफी कम है.

अलगाववादी गुट ने कश्मीर में 18 अगस्त तक बंद का और 13 तथा 14 अगस्त को लाल चौक तक मार्च निकालने का आह्वान किया है.

कश्मीर में मोबाइल सेवा ठप

कश्मीर में एहतियाती तौर पर अधिकारियों ने सरकारी बीएसएनएल की पोस्टपेड सुविधा को छोड़कर बाकी सभी मोबाइल टेलीफोन सेवाओं पर शुक्रवार को प्रतिबंध लगा दिया है. ऐसा पिछले सप्ताह शुक्रवार की नमाज के बाद हुई हिंसक झड़पों को देखते हुए किया गया है.

एक पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘पूरी घाटी में मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को ठप कर दिया गया है. केवल बीएसएनएल की पोस्टपेड सेवा काम कर रही है.’

 

उन्होंने बताया कि कानून और व्यवस्था बनाए रखने और अफवाह से बचने के लिए मध्यरात्रि में पूरी घाटी में सेवा को बंद कर दिया गया.

पिछले शुक्रवार को सामूहिक नमाज के बाद घाटी के कई स्थानों पर प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच हिंसक झड़पें देखने को मिली थीं.

इन झड़पों में तीन लोगों की मौत हो गयी थी और सैकड़ों अन्य घायल हो गये थे.

दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले में आठ जुलाई को एक मुठभेड़ में हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकवादी बुरहान वानी की मौत के बाद भड़की हिंसा के चलते 15 जुलाई को घाटी में बीएसएनएल की पोस्टपेड सेवा को छोड़कर सभी मोबाइल टेलीफोन सेवाओं को ठप कर दिया गया था.

अधिकारियों ने नौ जुलाई को पूरी घाटी में मोबाइल इंटरनेट सुविधा बंद कर दी थी.

26 जुलाई को पोस्टपेड सेवाएं बहाल कर दी गई थीं और इसके एक दिन बाद प्रीपेड नंबरों पर इनकमिंग सुविधा शुरू कर दी गयी थी. लेकिन प्रीपेड पर आउटगोइंग सुविधा बंद ही रही.
शुक्रवार को लगातार 35वें दिन मोबाइल इंटरनेट सुविधा ठप है.

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>