जानिए क्यों पुरुषों और महिलाओं का दिमाग अलग अलग पाया जाता है

Mar 08, 2017
जानिए क्यों पुरुषों और महिलाओं का दिमाग अलग अलग पाया जाता है

ऐसा कहते हैं कि महिला महिलाओं का और पुरुषों का दिमाग अलग अलग होता है। इस विषय पर कई बार बहुत सी किताबें भी लिखी गई है। जैसे वुमेंस आफ फ्रॉम मार्स वगैरा। पर क्या यह सच है कि ऐसा होता है? क्या वाकई में ही पुरुषों और महिलाओं के दिमाग में अंतर पर होता है? अगर आप मॉडर्न शोधकर्ताओं के नतीजों पर यकीन करें तो उनका कहना है कि यह सच नहीं है। फ्रेंकलिन यूनिवर्सिटी ऑफ मेडिसिन एंड साइंस ने बहुत समय से चली आ रही इस धारणा को अपनी रिसर्च के द्वारा चुनौती दी है। और इस धरना को गलत बताया है। इनका मानना है कि सेंस और इमोशन कंट्रोल करने वाला दिमाग का हिस्सा महिलाओं के अंदर अधिक बड़ा पाया जाता है।

यूनिवर्सिटी के मेडिकल स्कूल में न्यूरोसाइंस के एसोसिएट प्रोफेसर लाइस इलीट ने अपने छात्रों की एक टीम के साथ दिमाग के उसी हिस्से पर mri स्कैन किया। और इस स्कैन का एनालिसिस किया। जिसके नतीजा यह है कि औरतों और मर्द के दिमाग में किसी भी तरह का कोई फर्क नहीं होता है । इस टीम ने बहुत तरह के रिसर्च का अध्ययन करने के बाद यह नतीजा निकाला है। इस रिसर्च में 6000 से ज्यादा स्वस्थ लोगों को शामिल करते हुए लगभग 75 से ज्यादा रिसर्च पेपरों की पड़ताल की है । इस टीम ने बहुत लंबे से समय से चली आ रही पुरानी मान्यता को चुनौती दे दी है। डॉक्टरस का मानना है कि जब आप पुरानी चली आ रही मान्यता से हटकर डाटा पर नजर डालेंगे तो आप पाएंगे कि इसमें अंतर बहुत कम है ।लगभग इसका अंतर ना के बराबर है।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>