जानिए भारत में कंडोम कब और कैसे आया था..

Jun 23, 2017
जानिए भारत में कंडोम कब और कैसे आया था..

जब 1952 में भारत सरकार ने दुनिया के पहले राष्ट्रीय परिवार नियोजन कार्यक्रम की स्थापना की थी, उस समय निजी तौर पर कंडोम महंगी कीमतों पर बनाए और बिका करते थे। उस समय अमीर लोगों को कंडोम 25 पैसे की कीमत चुकाने पर मिला था। जबकि उस समय में कम गरीब लोगों में जनसंख्या वृद्धि की दर सबसे अधिक थी। फिर कुछ समय बाद IIM टीम ने भारत सरकार को कंडोम आयात करने और उन्हें 5 पैसे प्रति कंडोम पर बेचने का सुझाव दिया था जो कि भारतीयों के लिए सस्ता औसत था।

इस तरह भारत में निरोध के रूप में, जाना जाने लगा
आपको बता दें कि भारत सरकार दवारा जब कंडोम को बड़े पैमाने पर वितरित करने का फैसला किया गया, तो उस दौरान कंडोम का नाम कामराज रखा जा था। भारत में कामराज को प्रेम का भगवान माना जाता था। जब कामराज भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष थे। इसलिए इस नाम का सुझाव ख़त्म कर दिया गया। फिर बाद में एक IIM छात्र ने निरोध नाम का सुझाव दिया, ोउ उसके बाद बस कंडोम निरोध के रूप में लोकप्रिय हो गया। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि निरुध वास्तव में कंडोम का पहला भारतीय ब्रांड था।

ये भी पढ़ें :-  भारत में घरेलू नौकर होते दुर्व्यवहार के शिकार
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>