तो पहले जानिए इनका नाम,देश का अजेंडा ये व्यक्ति सेट करता है

Apr 29, 2016

देश में ख़बरों और मुद्दों का अजेंडा न्यूज़ चैनल के वो चेहरे नहीं तय करते जिन्हे आप स्क्रीन पर देखते हैं. देश का अजेंडा वो अख़बार भी नहीं गढ़ते हैं जो पत्र के साथ मित्र भी है या फिर रियल एस्टेट का व्यापार करते हैं. देश का अजेंडा ये व्यक्ति सेट कर रहा है जिसकी तस्वीर ऊपर लगी है. एक बार तस्वीर पर फिर से गौर करें. टीवी की बहस पर ये चेहरा आपने नहीं देखा होगा. किसी नेता के साथ या सेलिब्रिटी पार्टी में भी ये चेहरा आपको नहीं दिखा होगा. तो पहले जानिए इनका नाम ….इन्हे राजकमल झा कहते हैं.

अगर आप किसी अख़बार या चैनल में पत्रकार नहीं हैं तो झा साहब को नहीं जानते होंगे. झा साहब IIT खड़गपुर से मैकेनिकल इंजीनियरिंग के छात्र रहे जिन्होंने बाद में यूनिवर्सिटी ऑफ़ साउथ कैलिफ़ोर्निया से प्रिंट जर्नलिज्म में पोस्ट ग्रेजुएशन किया. आज की तारीख में 49 वर्षीय झा देश के सबसे तेवर वाले अख़बार इंडियन एक्सप्रेस के प्रधान संपादक है. सच ये है कि इनके खोज ख़बरों से सूचना प्रसारण मंत्री अरुण जेटली घबराते हैं. इनके अख़बार को रोज़ सुबह पीएम मोदी भी पढ़ते हैं. ये कहना गलत नहीं होगा कि इनके अख़बार में सुबह छपी ख़बरों को ही दिन भर न्यूज़ चैनल फॉलो करते हैं.

दादरी काण्ड की एक्सक्लूसिव खबर राष्ट्रीय मीडिया में इंडियन एक्सप्रेस ने ब्रेक की थी. जो खबर रीजनल अख़बारों के मेरठ एडिशन में दब गई उसे झा ने अपने रिपोर्टर्स की टीम से कवर करवाया और बाद में यही खबर देश का मुद्दा बन गया. पनामा पेपर्स घपले में फंसे अमिताभ बच्चन और कई बड़े उद्योगपति की खबर भी झा की इनवेस्टिगेटिव टीम को लीड कर रही रितु सरीन ने ब्रेक की थी.

इससे पहले ब्लैक मनी पर भारतीयों के स्विस अकाउंट की बड़ी खबर को भी इंडियन एक्सप्रेस ने ब्रेक किया था. पुरस्कार वापसी की शुरुआत हो या फिर रोहित वेमुला पर खुलासा, झा के सम्पादकीय साम्राज्य में खबर जल्दी रूकती नहीं है. उन्होंने महाराष्ट्र में सूखे से लेकर पंजाब में कीटनाशक के घोटाले पर सबसे पहले फोकस किया. कोयला घोटाले और 2 जी स्कैम पर भी झा के रिपोर्टर्स ने बड़ी खोज ख़बरें की हैं.

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>