धन शोधन मामले में खालिदा जिया के बेटे को सात साल की सजा

Jul 21, 2016

बांग्लादेश की विपक्षी नेता और पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया के बड़े बेटे को करीब 25 लाख अमरीकी डालर के धन शोधन मामले में गुरुवार को सात वर्ष की जेल की सजा सुनाई गई.

उच्च न्यायालय ने निचली अदालत के उस फैसले को बदल दिया जिसमें 48 वर्षीय तारिक रहमान को धन शोधन के मामले में बरी कर दिया गया था.

उच्च न्यायालय की दो सदस्यीय पीठ ने बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) के वरिष्ठ उपाध्यक्ष, तारिक रहमान को 2003 से 2007 के बीच में धन शोधन करने के मामले में सजा सुनाई है.

फैसले के बाद अदालत के एक अधिकारी ने संवाददाताओं से कहा, ”उसे (रहमान) उसकी अनुपस्थिति में सजा सुनाई गई है क्योंकि समन भेजे जाने के बाद भी वह अदालत में उपस्थित नहीं हुआ….इससे पहले अदालत ने उसे भगोड़ा घोषित किया था.”

ये भी पढ़ें :-  रोहिंग्या मुद्दे पर OIC की आपातकालीन बैठक, ईरान ने कहा – इस्लामिक वर्ल्ड मुसलमानों का क़त्ल बर्दाश्त नहीं करेगा

2007 से लंदन में रह रहे रहमान पर धन शोधन अधिनियम के तहत आरोप लगाया गया था. अदालत ने उस पर 20 करोड़ टका का जुर्माना भी लगाया है.

एक आश्चर्यजनक फैसले में, ढाका की एक अदालत ने 17 नंवबर, 2013 में रहमान को भ्रष्टाचार के आरोप से बरी कर दिया था लेकिन इसी मामले में उसके दोस्त और व्यापारी भागीदार गयासुद्दीन अल मामुन को सात साल के कारावास की सजा और 40 करोड़ टका का जुर्माना लगाया था.

उच्च न्यायालय ने मामुन की सजा को बरकरार रखा है लेकिन उसकी जुर्माना राशि को घटाकर 20 करोड़ टका कर दिया है.

ये भी पढ़ें :-  अपनी अंतिम प्रेस कांफ्रेंस में ओबामा ने कहा- भविष्य में कोई हिंदू भी हो सकता है अमेरिका का राष्ट्रपति

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected