अर्जुन पदक विजेता अंजू बॉबी जार्ज से केरल के खेल मंत्री ने की अभद्रता

Jun 09, 2016

। कॉमनवेल्थ पदक विजेता अंजू बॉबी जार्ज ने केरल के मंत्री ईपी जयराजन पर शोषण का आरोप लगाया है। अंजू ने जयराजन पर उनका अपमान करने का आरोप लगाया गया है। अंजू ने केरल के खेल मंत्री की शिकायत मुख्यमंत्री पिनारायी विजयन से भी की है। वह केरल खेल परिषद की अध्यक्ष भी हैं।

अंजू ने वर्ष 2003 में विश्व चैंपियनशिप में भी खिताब जीता था। अंजू ने कहा कि वह नवनियुक्त खेल मंत्री से मिलने के लिए खेल परिषद के उपाध्यक्ष से मिलने के लिए गयी थी। अंजू को पिछली यूडीएफ सरकार में खेल परिषद का अध्यक्ष बनाया गया था।

ये भी पढ़ें :-  आईपीएल नीलामी आज, 357 खिलाड़ियों की लगेगी बोली

अंजू ने कहा कि हम खेल मंत्री से मिलने गये थे तो हमें लग रहा था कि वह हमसे खेल के बारे में बात करेंगे। लेकिन उन्होंने हमसे कहा कि आप सभी लोग पिछली सरकार में चुने गये हैं इसलिए आप सब दूसरी पार्टी के सदस्य हैं। आप लोग जो भी ट्रांसफर और नियुक्ति कर रहे हैं वह सभी गैरकानूनी है।

अंजू ने कहा कि खेल मंत्री ने हमारे बेंगलुरू के हवाई टिकट पर भी आपत्ति जतायी, जहां वह रहती हैं। उन्होंने कहा कि खेल मंत्री ने मुझे पकड़ा और कहा कि यह सब नियम के खिलाफ हैं। लंबी कूद की खिलाड़ी अंजू ने कहा कि पिछली सरकार ने उन्हें हवाई यात्रा का खर्च मुहैया कराया था। लेकिन जयराजन ने कहा कि यह सब भ्रष्टाचार है।

ये भी पढ़ें :-  इटली की राष्ट्रीय टीम में बालोटेली की वापसी पर संदेह

अंजू ने कहा कि उनके अलावा प्रीजा श्रीधरन, भारतीय हॉकी टीम के कप्तान श्रीजेश और केरल क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष टीसी मैथ्यू भी इस परिषद के सदस्य हैं। वहीं जयराजन ने सभी आरोपों से किनारा किया है। उन्होंने कहा कि अंजू उनसे मिलने के बाद खुशी-खुशी वापस गयी थी।

वहीं उनपर लगे आरोपों के बारे जयराजन ने कहा कि उन्होंने किसी भी गलत भाषा का इस्तेमाल नहीं किया और ना ही किसी भी प्रकार का अभद्र व्यवहार किया। गौरतलब है कि जयराजन ने मोहम्मद अली के निधन के बाद उन्हें केरल का खिलाड़ी बताया था। उन्होंने एक टीवी चैनल को दिये इंटरव्यू में कहा कि अली ने केरल को विश्व दर्जा दिलाया था।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected