देश के कानून को मानते रहेंगे.लेकिन शरीयत के खिलाफ किसी भी कानून को नहीं मानेंगे

Aug 24, 2017
देश के कानून को मानते रहेंगे.लेकिन शरीयत के खिलाफ किसी भी कानून को नहीं मानेंगे

तीन तलाक़ के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट दवारा सुनाए गए फैसले पर नाराज़गी जाहिर करते हुए बरेलवी मसलक ने कहा,वह इस न्यायलय के इस फैसले को नहीं मानते क्योंकि कोर्ट का यह फैसला शरीयत में दखल अंदाज़ी है। आला हज़रात और सज्जादा नशीन दरगाह आला हज़रात के चाचा, मौलाना तस्लीम रज़ा ने कहा कि हम और तमाम मामलो में देश के कानून को मानते रहेंगे.लेकिन शरीयत के खिलाफ किसी भी कानून को नहीं मानेंगे।

कहा कि, चाहे सरकार कानून बनाये या न बनाये हम कोर्ट के इस आदेश को नहीं मानेंगे। क्योंकि तीन तलाक़ मज़हबी मामला है इसलिए इसमें अदालत दखल नहीं दे सकती। हम शरीयत का कानून ही मानेंगे।

ये भी पढ़ें :-  दलित छात्र से कुत्तों की मालिश और शौचालय साफ करवाते थे स्कूल अधिकारी

साथ ही सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद मुफ़्ती खुर्शीद आलम, जो कि ब्रेलली के इमाम हैं, उन्होंने कहा कि वह शरीयत का कानून मानते हैं। और क़ुरान हदीस के ज़रिये जो फेसला होगा वह उसी को मानेंगे। चाहे कोई भी अपनी एड़ी चोटी का दम लगा ले। हम उसका फैसला नहीं मानेंगे।

लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>