कर्नाटक हाईकोर्ट ने कहा-टीपू सुल्तान केवल निजी लाभ के लिए लड़ा तो क्यों मनाई जाए उसकी जयंती

Nov 03, 2016
कर्नाटक हाईकोर्ट ने कहा-टीपू सुल्तान केवल निजी लाभ के लिए लड़ा तो क्यों मनाई जाए उसकी जयंती
कर्नाटक में टीपू सुल्तान की जयंती मनाए जाने को लेकर फिर से विवाद खड़ा हो गया है। कर्नाटक के कुर्ग के एक किसान केपी मंजूनाथ ने इस जयंती के आयोजन के खिलाफ कोर्ट का दरवाजा खटखटाया तो कोर्ट ने पूछा है कि जब टीपू सुल्तान सिर्फ अपने हितों के लिए लड़ा तो उसकी क्यों मनाई जा रही है जयंती।  किसान ने कर्नाटक हाईकोर्ट में याचिका दाखिलकर 10 नवंबर को होने वाले टीपू जयंती समारोह पर रोक लगाने की मांग की है।
कोर्ट ने कहा-टीपू सुल्तान कोई स्वतंत्रता सेनानी नहीं सिर्फ राजा था
अब इस केस में इस साल सुनवाई करते हुए कर्नाटक हाई कोर्ट ने बुधवार को कहा कि टीपू सुल्तान कोई स्वतंत्रता सेनानी नहीं बल्कि सिर्फ एक राजा था, जो अपने हितों की रक्षा के लिए लड़ा। इसके बाद राज्य सरकार से टीपू जयंती मनाने का कारण भी पूछा। मुख्य न्यायाधीश एस कमल मुखर्जी की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा, ‘टीपू जयंती मनाने के पीछे तर्क क्या है?’ जस्टिस मुखर्जी ने कोडागू और प्रदेश के अन्य हिस्सों में सांप्रदायिक तनाव की आशंका के बीच टीपू जयंती मनाने के सरकार के फैसले पर सवाल उठाए। सरकारी वकील एमआर नाइक ने हालांकि जयंती मनाने के फैसले का बचाव किया। उन्होंने दलील दी कि टीपू महान योद्धा था। उसने अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी। याची के वकील साजन पुवइया ने तर्क दिया कि टीपू एक तानाशाह शासक था, जिसने कोदवा, कोंकणी और ईसाई सहित कई समुदायों के लोगों को मौत के घाट उतारा था। मामले की सुनवाई गुरुवार को भी जारी रहेगी।
अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>