JNU की प्रोफेसर के विवादित बोल, सेना का जवान देश के लिए नही रोटी के लिए काम करता है, मैं भारत माता को नही मानती

Feb 04, 2017
JNU की प्रोफेसर के विवादित बोल, सेना का जवान देश के लिए नही रोटी के लिए काम करता है, मैं भारत माता को नही मानती

जेएनयु अचानक से देश विरोधी कार्यो के लिए सुर्खियों में है। जेएनयु की प्रोफेसर निवेदिता मेनन खुद का परिचय भी देश विरोधी के रूप में देती है। जोधपुर की जयनरायण व्यास विश्वविधालय के अंग्रेजी विभाग ने एक संगोष्ठी का आयोजन में प्रोफेसर निवेदिता मेनन ने भारतीय सेना, राष्ट्रिय ध्वज और भारत माता को लेकर बेहद ही विवादित बाते कही है। उनके इस बयान के बाद विश्वविद्यालय में ABVP के छात्रों ने खूब हंगामा किया और विश्वविद्यालय परिसर को बंद करा दिया। बढ़ते विरोध को देखते हुए जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय के वीसी आरपी सिंह ने तीन सदस्यों की जांच कमिटी गठित करने का आदेश दिया। लेकिन छात्र इससे संतुष्ट नही थे। वो पुलिस कार्यवाही की मांग कर रहे थे। बाद में वीसी ने निवेदिता और आयोजक डॉ. राजश्री राणावत के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज करने का निर्देश दिया।
जोधपुर के जयनरायण व्यास विश्वविधालय में एक संगोष्ठी के आयोजन में प्रोफेसर निवेदिता को अपने विचार रखने के लिए बुलाया गया था। मंच पर आते ही निवेदिता ने अपना परिचय देशविरोधी बताते हुए दिया. इसके बाद उनके पीछे चल रही स्लाइड में भी भारत का नक्शा उल्टा दिखाई दे रहा था। कुछ देर तक लोगो को समझ नहीं आया। लेकिन निवेदिता ने स्पष्ट किया की उनके विभाग में भी भारत का नक्शा उल्टा लगाया गया है। मुझे इस नक़्शे में कोई भारत माता नजर नही आती। और वैसे भी दुनिया गोल है तो नक्शा कैसे भी देखा जा सकता है।

निवेदिता ने भारतीय सैनिको पर कहा की वो देश की सेवा के लिए नही बल्कि रोटी के लिए काम करते है। उन्हें सियाचिन भेजकर क्यों मरवा रहे हो, निवेदिता यही नही रुकी उन्होंने भारत माता पर कहा की आखिर इसको इस रूप में क्यों दिखाया गया है। इसके हाथ में तिरंगा क्यों है। यह तो आजादी के बाद का झंडा है. पहले इसमें चक्र भी नहीं था। मैं इस भारत माता को नही मानती।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>