पाक जेआईटी दौरा आदान-प्रदान के आधार पर तय हुआ था : विदेश मंत्रालय

Apr 08, 2016

भारत ने पाकिस्तान के उच्चायुक्त के इस बयान का खंडन किया कि पाकिस्तानी जेआईटी का दौरा आदान-प्रदान के आधार पर नहीं हुआ था.

पाकिस्तान के संयुक्त जांच दल (जेआईटी) के पठानकोट दौरे को लेकर भारत में पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित की  टिप्पणी का भारत ने पुरजोर खंडन करते हुए कहा है कि यह दौरा परस्पर आदान-प्रदान के आधार पर तय हुआ था.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा, हम यह स्पष्ट करना चाहते हैं कि जेआईटी के भारत दौरे से पहले ही यह सहमति बन गई थी. भारतीय उच्चायोग ने पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय को सूचना दे दी थी कि यह दौरा परस्पर  आदान-प्रदान के आधार पर ही होगा और इस पर दोनों के बीच सहमति बनी थी.

गुरूवार को दिये गये बासित के इस बयान पर भारत-पाकिस्तान शांति प्रक्रिया निलंबित है, स्वरूप ने कहा मैंने कई बार कहा है कि दोनों देश एक दूसरे के संपर्क में हैं और दोनों पक्षों ने यह बात दोहरायी है.

 

उल्लेखनीय है कि बासित ने कहा ‘मुझे लगता है कि इस समय शांति प्रक्रिया निलंबित है. दोनों देशों के विदेश सचिवों के बीच बैठक का फिलहाल कोई कार्यक्रम तय नहीं है. देखते हैं कि यह संवाद प्रक्रिया कब शुरू हो पाती है.

पठानकोठ हमले की जांच के सिलसिले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी की टीम को पाकिस्तान बुलाने की अनुमति के सवाल पर उन्होंने पहले के रुख से पलटते हुए कहा कि यह मामला बराबरी की लेन देन की यात्रा का नहीं बल्कि जांच में परस्पर सहयोग का है ताकि घटना की तह तक पहुंचा जा सके.

पाकिस्तानी उच्चायुक्त ने कहा कि दोनों देशों के बीच स्थायी शांति का कोई ‘शॉर्ट कट’ नहीं है. इसके लिए एक दूसरे की संप्रभुता का सम्मान करते हुए सतत,व्यापक और गंभीर प्रयास करने होंगे. सच्चाई यह है कि इस रास्ते में कश्मीर विवाद मूल बाधा है. जम्मू कश्मीर की जनता की आकांक्षाओं के अनुरुप इसका समाधान होना चाहिए. इसकी अनदेखी के दुष्परिणाम होंगे.

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>