जिगिशा घोष मर्डर केस, दो दोषियों को फांसी, एक को उम्रकैद

Aug 22, 2016
जिगिशा घोष मर्डर केस,  दो दोषियों को फांसी, एक को उम्रकैद

दिल्ली की साकेत कोर्ट ने 2009 के जिगिशा घोष मर्डर केस में फैसला सुनाते हुए दो दोषियों को फांसी, जबकि एक को उम्रकैद की सजा सुनाई.

कोर्ट ने रवि कपूर और अमित शुक्ला को फांसी और बलजीत मलिक को उम्रकैद की सजा सुनाई है.

कोर्ट ने अमित शुक्ला को आईपीसी की धारा 302 के तहत फांसी और एक लाख रुपए जुर्माना की सजा, जबकि रवि कपूर को फांसी और 20 हजार का जुर्माना लगाया है.

कोर्ट ने बलजीत को उम्रकैद की सजा दी है और तीन लाख का जुर्मान लगाया है.

 

इससे पहले कोर्ट ने जिगिशा घोष की हत्या और लूटपाट मामले में तीन लोगों को दोषी ठहराया तऔर कहा कि यह काफी स्पष्ट है कि उन्होंने अपराध किया.

28 वर्षीय जिगिशा एक प्रबंधन कंसल्टेंसी फर्म में ऑपरेशंस मैनेजर के रूप में काम करती थी.

पुलिस के मुताबिक, 18 मार्च 2009 को उसके कार्यालय की कैब ने उसे सुबह करीब चार बजे दक्षिण दिल्ली के वसंत विहार स्थित उसके घर के पास छोड़ा जिसके बाद उसका अपहरण हो गया और उसकी हत्या कर दी गई.

तीन दिन बाद हरियाणा के सूरजकुंड के पास जिगिशा का शव बरामद किया गया था.

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>