जानिए- लव और अट्रेक्शन में डिफरेंस

Feb 01, 2017
जानिए- लव और अट्रेक्शन में डिफरेंस

प्यार में आप एक दूसरे को बहुत लाइक करते हैं हो बट अट्रैक्शन में दूसरी तरह का लाइक होता है

जब आप लव में होते हो तो आपका पाटनर ही आपके लिए सब कुछ होता है पर पूरी दुनिया एक तरफ अलग और आपका पार्टनर अलग है।

आप अपने पार्टनर को इतना प्यार करते हो कि आप उसके बिना रह नहीं सकते । अट्रैक्शन के मामले में ऐसा कुछ नहीं होता है ।2 दिन का अट्रैक्शन होता है फिर खत्म ।

अगर अट्रैक्शन की बात की जाए तो इसमें जरूरत जरूरत होती है एक बार ही जरूरत खत्म हो गई तो अट्रेक्शन खत्म।

प्यार में एक दूसरे पर ट्रस्ट होता है बट अट्रैक्शन में शक होता है ।

आपने अक्सर देखा होगा यह सुना होगा कि किसी के ब्रेकअप हो गया किसी के किसी का रिलेशनशिप खत्म हो गया आदि । अगर ऐसा किसी के साथ होता है तो आप उनके रिलेशनशिप प्रॉब्लम नहीं कह सकते आप इसे थोड़ा बहुत अट्रैक्शन कह सकते हो।

प्यार में लाइफ अच्छी लगती है बट अट्रेक्शनमें  लाइफ हार्ड। अगर आप किसी के साथ यू लव में हो तो आपको हर लाइफ भी अच्छी लगती है आपको कोई फर्क नहीं पड़ता है कि आपके पास हजार कानोट है कि सौ का ।बट अट्रैक्शन के मामले में अगर लाइफ हार्ड लगती है तो रिलेशनशिप टूट जाता है ।

आपने अक्सर मैरिज लाइफ लव मैरिज लाइफ या रिलेशनशिप को टूटते हुए सुना या देखा होगा इन सब रिलेशनशिप के टूटने का कारण प्यार का ना होना था ।

प्यार में आप फ्यूचर की सोचते हो अट्रैक्शन में नहीं अक्सर ।आपने देखा होगा या सुना होगा कि किसी का रिलेशनशिप 2 दिन या 1 महीने चलने के बाद टूट गया ।आप इसे रिलेशनशिप को प्यार नहीं कह सकते। आप इसे अट्रैक्शन कह सकते हो ।

जब कपल पूरा लव में होते हैं वह फ्यूचर तक की सोचते हैं प्यार में आप सैक्रिफाइस कर सकते हो बट अट्रैक्शन में नहीं सैक्रिफाइस है।

हर कोई नहीं कर सकता इसलिए आपके पास कोई ऐसी चीज होनी चाहिए जिससे आप अपने से भी ज्यादा प्यार करते हो और वह तब हो सकता है।

जब आप किसी को सच में लव करते अट्रैक्शन  के मामले में ऐसा नहीं होता है।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>