जम्मू-कश्मीर में ‘पैलेट गन’ के इस्तेमाल पर हाईकोर्ट ने केंद्र से मांगी रिपोर्ट

Jul 27, 2016

श्रीनगर: जम्मू कश्मीर हाई कोर्ट ने प्रदर्शनकारियों के खिलाफ ‘पैलेट गन’ का इस्तेमाल किये जाने को नामंजूर करते हुए ‘‘अप्रशिक्षित कर्मियों’’ के हाथों ‘‘घातक’’ हथियार के इस्तेमाल पर केंद्र से रिपोर्ट मांगी है.

मुख्य न्यायाधीश एन पॉल वसंतकुमार और न्यायमूर्ति मुजफ्फर हुसैन अतर की सदस्यता वाली खंडपीठ ने जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा, ‘‘पैलेट एक गोलकार छर्रा है जिसमें ‘लेड’ भरा होता है. यदि वह आंख में घुस जाए तो नुकसान होता है. क्या आप पानी, आंसू गैस जैसे अन्य तरीके नहीं इस्तेमाल कर सकते? पैलेट गन घातक साबित हुई है.’’ पीठ ने कहा, ‘‘ये आपके अपने लोग हैं. उनमें गुस्सा है. वे प्रदर्शन कर रहे हैं. इसका यह मतलब नहीं कि आप उन्हें अक्षम कर देंगे. आपको उनकी रक्षा करनी है. उम्मीद है पैलेट गन के इस्तेमाल की समीक्षा होगी.’’

ये भी पढ़ें :-  गुजरात के गधों का प्रचार कराना बंद कर काम करें मोदी : अखिलेश

अदालत ने कहा कि नागरिकों के अधिक संख्या में घायल होने की वजह यह थी कि अप्रशिक्षित सुरक्षा कर्मी पैलेट गन का इस्तेमाल कर रहे थे. अदालत ने सीआरपीएफ के डीजीपी के बयान के आधार पर ये बात कही. सीआरपीएफ के डीजीपी ने कहा था कि अन्य स्थान पर प्रशिक्षण ले रही अद्धसैनिक बल की 114 कंपनियों को स्थिति नियंत्रित करने के लिए कश्मीर बुलाना पड़ा.

अदालत ने साथ ही सरकार से कहा कि वह घाटी में फोन सेवाएं बहाल करे क्योंकि इससे लोग प्रभावित हो रहे हैं.

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

ये भी पढ़ें :-  'क' से कांग्रेस, 'स' से सपा और 'ब' से बसपा है, उप्र को कसाब से मुक्त कराना है- अमित शाह
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected