भारत के आंतरिक मामले में हस्तक्षेप करते हुए चीन ने जताई कश्मीर हिंसा पर चिंता

Jul 19, 2016

पाकिस्तान के बाद भारत के आंतरिक मामले में हस्तक्षेप करते हुए अब चीन ने कश्मीर हिंसा पर चिंता जताई है.

भारत में नाराजगी पैदा करने वाले बयान में चीन ने कहा कि वह कश्मीर में झड़पों में लोगों के मारे के जाने से चिंतित है तथा वह उम्मीद करता है कि हालात को ‘सही ढंग से संभालेंगी’ और ‘संबंधित पक्ष’ बातचीत के जरिए शांतिपूर्ण ढंग से मुद्दा निवारण करंगे.
चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू कांग ने कहा, ‘‘चीन ने संबंधित खबरों का संज्ञान लिया है. हम झड़पों में लोगों के हताहत होने को लेकर समान रूप से चिंतित हैं तथा उम्मीद करते हैं कि इस घटना को सही ढंग से संभाला जाएगा.’’
उन्होंने कहा, ‘‘कश्मीर का मुद्दा इतिहास से जुड़ा है. चीन का निरंतर एक ही रूख बना हुआ है. चीन आशा करता है कि संबंधित पक्ष शांतिपूर्ण ढंग से इस मुद्दे का समाधान निकालेंगे.’’
लू का बयान जानकारों के लिए हैरान करने वाला है क्योंकि जम्मू-कश्मीर में किसी भी घटनाक्रम पर चीन विरले ही टिप्पणी करता है.
बीते आठ जुलाई को हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकी बुरहान वानी के मारे जाने के बाद घाटी में प्रदर्शन कारियों और सुरक्षा बलों के बीच हिंसक झड़पें हुई थी. हिंसा में 39 लोगों की मौत हुई है.
उकसावे वाले बयान में कमी लाने का आह्वान
इसके पहले कश्मीर में मारे गए हिज्बुल मुजाहिदीन कमांडर बुरहान वानी को ‘‘शहीद’’ बताने और यह कहने कि कश्मीरियों के खिलाफ भारतीय सेना के ‘‘अत्याचार’’ के विरोध में 19 जुलाई को ‘‘काला दिन’’ मनाने के पाकिस्तान के आह्वान के बाद अमेरिका ने कश्मीर में उकसावे वाले बयानों और हिंसा में कमी लाने का आह्वान किया.
अमेरिका के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता एलिजाबेथ ट्रूडो ने कहा, ‘‘यह ऐसी स्थिति है जहां इसके सभी पक्षों को उकसावे वाले बयान और हिंसा में कमी लाने और ऐसी स्थिति में वापस जाने की आवश्यकता है जिसमें वे संवाद कर सकें.
उन्होंने कहा, ‘‘जाहिर तौर पर हम इस स्थिति पर बेहद चिंतित हैं. हिंसा पर हम बेहद चिंतित हैं.’’
कश्मीर के कोकरनाग में आठ जुलाई को भारतीय सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में बुरहान के मारे जाने के समर्थन में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के 19 जुलाई को ‘‘काला दिन’’ के रूप में मनाए जाने की घोषणा को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में ट्रूडो ने ये बातें कहीं.
कश्मीर की स्थिति पर चर्चा के लिए एक विशेष कैबिनेट बैठक को सम्बोधित करते हुए शरीफ ने इसे ‘‘आजादी के आंदोलन के बतौर कश्मीरियों का आंदोलन’’ करार दिया था.
कैबिनेट ने मंगलवार 19 जुलाई के दिन को ‘‘काला दिन’’ के तौर पर मनाने का फैसला किया.
इस बीच, पाकिस्तान ने कश्मीर में स्थिति के बारे में अफ्रीकी एवं पश्चिम एशियाई देशों के दूतों को भी अवगत कराया.
 अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>