भारतीय कैदी किरपाल सिंह को नसीब होगी सरज़मीं

Apr 19, 2016

पाकिस्तान के कोट लखपत जेल में 11 अप्रैल को रहस्यमय परिस्थितियों में मृत पाए गए भारतीय कैदी किरपाल सिंह का शव मंगलवार को भारत लाया जाएगा.

लाहौर के जिन्ना हॉस्पिटल में पोस्टमार्टम करने के बाद किरपाल का शव भारतीय उच्चायोग के अधिकारियों को सौंपा जाएगा. किरपाल का शव वाघा बॉर्डर के रास्ते भारत भेजा जाएगा.

पाकिस्तान की कोट लखपत जेल में दम तोड़ने वाले भारतीय किरपाल सिंह का शव मंगलवार को भारत लाया जाएगा. 55 वर्षीय किरपाल की 11 अप्रैल को लाहौर की कोट लखपत जेल में संदिग्ध हालात में मौत हुई थी.

गुरदासपुर के रहने वाले किरपाल जासूसी के आरोप में पिछले 25 सालों से पाकिस्तानी जेल में कैद थे. वह 1992 में वाघा सीमा के रास्ते कथित तौर पर पाकिस्तान में घुस गए थे और उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था. उन्हें बाद में पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में सिलसिलेवार बम धमाकों के मामले में मौत की सजा सुनाई गई.

गौरलतब है कि किरपाल सिंह के परिवार के सदस्य 15 अप्रैल को गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मिले थे जिसके बाद सिंह ने उन्हें आश्वासन दिया था कि शव को भारत लाने के मामले में पूरी मदद की जाएगी.

किरपाल सिंह 25 साल से अधिक समय से पाकिस्तान के जेल में बंद थे. लाहौर जेल में भारतीय कैदी किरपाल सिंह की मौत पर पाकिस्तान ने अपने बयान में कहा है कि उसकी मौत हार्ट अटैक से हुई थी.

वहीं इस मामले को लेकर सरबजीत की बहन दलबीर कौर ने कहा कि जब मैंने किरपाल सिंह के शव को भारत लाने की खबर सुनी तो मुझे मेरे भाई के बारे में वह सारा वाक्या याद आने लगा जब उसके शव को भारत लाया गया था.

दलबीर कौर ने कहा कि मेरा मानना है कि किरपाल की मौत हार्ट अटैक से तो नहीं हुई है. इसके पीछे कारण कारण कुछ और है.

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>