इंडियन महिला हॉकी खिलाड़ी का परिवार खुले में शौच को है मजबूर, नहीं दिया जा रहा कोई भी ध्यान

Jan 11, 2018
इंडियन महिला हॉकी खिलाड़ी का परिवार खुले में शौच को है मजबूर, नहीं दिया जा रहा कोई भी ध्यान

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पुरे भारत में स्वच्छता अभियान चला रखा है। जहाँ वह पुरे देश को खुले में शौच से मुक्त करना चाहते है, वहीँ आपको ये जानकार हैरानी होगी कि भारतीये जूनियर हॉकी टीम की खिलाड़ी के शौचालय को तोड़ दिए जाने के कारण वो और उनका परिवार खुले में शौच जैसी समस्या से जूझ रहे है।

भारतीये जूनियर हॉकी टीम की गोलकीपर खुसबू खान मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के जहांगीराबाद इलाके में एक झुग्गी में अपने परिवार के साथ रहती हैं। वह इनदिनों बहुत समस्याओ से गुजर रही है, उनके शौचालय को तो पहले ही तोड़ा जा चूका अब बताया जा रहा है कि उनकी झुग्गी को भी तोड़ने की धमकी दी जा रही है। करीब डेढ़ साल पहले उनके शौचालय को अस्पताल की जमीन में बने होने के कारण सरकारी अस्पताल प्रशासन ने तोड़ दिया था। अब उन्हें इस बात का डर सता रहा है कि कई झुग्गी को भी न तोड़ दिया जाये ऐसी ठण्ड में खुले आसमान के निचे मेरा और मेरे परिवार का कैसे गुजारा होगा।

खुशबू खान ने बताया कि शौचालय को अस्पताल के निर्माण के दौरान तोड़ा गया था, और हमें आश्वासन दिया गया था कि हमे एक और शौचालय को बनवा कर दिया जायेगा, लेकिन डेढ़ साल हो गयी और उन्होंने अभी तक कुछ नहीं किया। उन्होंने बताया कि वह अपनी समस्या से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से लेकर जिलाधिकारी तक को अवगत करा चुकी हैं। उन्होंने तात्या टोपे स्टेडियम के पास एक मकान आवंटित करने के लिए भी बोला था क्यूंकि उनके घर से स्टेडियम 7 किलोमीटर की दूरी पर है जिससे पैदल आने जाने में बहुत परेशानी होती है, जिससे थकान और समय दोनों बर्बाद होता है अगर वह हमें स्टेडियम के पास एक छोटा सा मकान आवंटित कर दे। जिससे वह अपने खेल में और अच्छा निखार ला सके। लेकिन आश्वासन के अलावा अभी तक कुछ नहीं मिला।

इंडियन जूनियर हॉकी खिलाड़ी खुशबू खान का कहना है कि अबकी बार मझे पूरा विश्वास है कि हमारे मामा जी (मध्यप्रदेश के CM शिवराज सिंह) मेरे और मेरे परिवार के लिए जरूर कुछ करेंगे। मैं उनसे अपील करती मुझे और मेरे परिवार को सुविधाएं मुहैया कराई जाएं।

ये भी पढ़ें :-  शर्मनाक: गौरक्षा के नाम पर दलितों की बेरहमी से की गई पीटाई, घरों में की गई तोड़फोड़

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि खुशबू खान के पिता एक ऑटो चालक है, उसी के जरिये वह अपने परिवार का भरण पोषण करते है। उनका कहना है कि उन्होंने अपनी बेटी को खिलाड़ी बनाने में हर सहयोग किया है। सरकार की तरफ से हमे किया मिला है हमारी झुग्गी का शौचालय को तोड़ दिया गया और बनबाने के आश्वासन दिया गया लेकिन अभी तक नहीं बनवाया गया।

लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>