भारत में डायरिया से बच्चों की मौत का सिलसिला जारी रहेगा

Jun 04, 2017
भारत में डायरिया से बच्चों की मौत का सिलसिला जारी रहेगा

साल 2015 में डायरिया (अतिसार) के कारण पांच साल से कम आयु के एक लाख से अधिक बच्चों की मौत के साथ ही भारत में इस बीमारी के कारण बच्चों की मौतों का सिलसिला जारी रहेगा। एक नए शोध में यह बात सामने आई है। पत्रिका ‘लांसेट इनफेक्शियस डिजिजेज’ में प्रकाशित अध्ययन के मुताबिक, साल 2015 में दुनिया भर में डायरिया के कारण पांच साल से कम आयु के जितने बच्चों की मौत हुईं उनमें से 42 फीसदी मौतें (499,000) अकेले भारत तथा नाइजीरिया में हुईं।

ग्लोबल बर्डेन ऑफ डिजिज के आंकड़ों का विश्लेषण करने वाले शोधकर्ताओं ने कहा, “वैश्विक तौर पर, साल 2015 में हमारे अनुमान के मुताबिक, डायरिया सभी आयु के लोगों की मौत का प्रमुख कारण था।”

ये भी पढ़ें :-  उर्दू में शपथ लेना मुस्लिम पार्षद को पड़ा भारी, BJP कार्यकर्ताओं ने मचाया हँगामा और की पीटाई

अध्ययन के दौैरान, मामले, मौत तथा बीमारियों के बीते 25 वर्षो के आंकड़ों का अध्ययन किया गया।

डायरिया के कारण उप-सहारा अफ्रीका तथा दक्षिण एशिया में सबसे ज्यादा लोगों की जान जाती है।

शोधकर्ताओं ने कहा, “डायरिया और इसके कारण होने वाली मौतों से बचाव किया जा सकता है और वैश्विक स्तर पर इस बीमारी से बचाव में स्वच्छ पानी, सफाई तथा बच्चों को संतुलित आहार प्रदान करना अहम है।”

लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>